हमें न्याय ​व्यवस्था पर है पूरा भरोसा, जमानत को लेकर था आश्वस्त : तेजस्वी यादव

lalu rabri tejaswi
हमें न्याय ​व्यवस्था पर है पूरा भरोसा, जमानत को लेकर था आश्वस्त : तेजस्वी यादव

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (IRCTC) घोटाले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव, उनके बेटे तेजस्वी यादव और पत्नी राबड़ी देवी को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए एक लाख रुपये के पर्सनल बॉन्ड पर जमानत दे दी है। बता दे कि अब इस मामले में अगली सुनवाई 11 फरवरी को होगी।

Patiala House Court Grants Bail To Lalu Yadav Rabri Devi And Tejashwi Yadav In Irctc Scam :

बताया जा रहा है कि पटियाला हाउस कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के साथ पत्नी राबड़ी देवी और पुत्र तेजस्वी यादव को भी नियमित जमानत दे दी है। जमानत मिलने के बाद भी लालू प्रसाद यादव जेल से बाहर नहीं आ सकेंगे, क्योंकि वो चारा घोटाले के मामले में जेल में हैं वहीं, नियमित जमानत मिलने पर RJD नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि हमें न्याय ​व्यवस्था पर पूरा भरोसा है और जमानत मिलने का पूरा भरोसा था।

बता दें कि वर्ष 2004 से 2009 के बीच रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव ने रेलवे के पुरी और रांची स्थित बीएनआर होटल के रखरखाव आदि के लिए आईआरसीटीसी को स्थानांतरित किया था। सीबीआई जांच में पता चला कि सारे नियम-कानून को ताक पर रखते हुए रेलवे का यह टेंडर विनय कोचर की कंपनी मेसर्स सुजाता होटल्स को दे दिये गये थे।

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (IRCTC) घोटाले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव, उनके बेटे तेजस्वी यादव और पत्नी राबड़ी देवी को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए एक लाख रुपये के पर्सनल बॉन्ड पर जमानत दे दी है। बता दे कि अब इस मामले में अगली सुनवाई 11 फरवरी को होगी। बताया जा रहा है कि पटियाला हाउस कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के साथ पत्नी राबड़ी देवी और पुत्र तेजस्वी यादव को भी नियमित जमानत दे दी है। जमानत मिलने के बाद भी लालू प्रसाद यादव जेल से बाहर नहीं आ सकेंगे, क्योंकि वो चारा घोटाले के मामले में जेल में हैं वहीं, नियमित जमानत मिलने पर RJD नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि हमें न्याय ​व्यवस्था पर पूरा भरोसा है और जमानत मिलने का पूरा भरोसा था। बता दें कि वर्ष 2004 से 2009 के बीच रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव ने रेलवे के पुरी और रांची स्थित बीएनआर होटल के रखरखाव आदि के लिए आईआरसीटीसी को स्थानांतरित किया था। सीबीआई जांच में पता चला कि सारे नियम-कानून को ताक पर रखते हुए रेलवे का यह टेंडर विनय कोचर की कंपनी मेसर्स सुजाता होटल्स को दे दिये गये थे।