मुजफ्फरपुर कांड: छह जिलों के सहायक निदेशक और सात जिलों के सीपीओ निलंबित

muzaffarpurkand
मुजफ्फरपुर कांड: छह जिलों के सहायक निदेशक और सात जिलों के सीपीओ निलंबित

पटना। बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर जिले के बालिका गृह की 34 नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म के खिलाफ कड़े कदम उठाने की विपक्ष की मांग के चलते राज्य की बाल संरक्षण इकाई के छह अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। राज्य के सामाजिक कल्याण विभाग ने इस आधार पर इन छह सहायक निदेशकों को निलंबित किया है क्योंकि उन्होंने आश्रय गृह में बच्चियों के साथ दुर्व्यवहार की सूचना मिलने के बावजूद कार्रवाई नहीं की।

समाज कल्याण विभाग के निदेशक राज कुमार ने बताया कि छह जिलों के सहायक निदेशकों को निलंबित किया गया है। जिन जिलों के सहायक निदेशक निलंबित किये गये हैं उनमें मुंगेर, भागलपुर, अररिया, भोजपुर, मधुबनी, मुजफ्फरपुर शामिल हैं। उन्होंने बताया कि छह जिलों के सहायक निदेशक के अलावा सात जिलों के बाल संरक्षण पदाधिकारी (सीपीओ) भी निलंबित किये गये हैं। सीबीआई मामले की जांच कर रही है।

{ यह भी पढ़ें:- मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड : पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के घरों पर CBI का छापा }

मुजफ्फरपुर बालिका गृह उस समय सुर्खियों में आया जब बिहार समाज कल्याण विभाग ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेस (टीआईएसएस)द्वारा यहां किए गए सोशल ऑडिट के आधार पर मामला दर्ज कराया। सीएम नीतीश कुमार ने शुक्रवार को बिहार के इस हाई प्रोफाइल मामले में चुप्पी तोड़ी थी। इसके 48 घंटे के भीतर ही ये बड़ी कार्रवाई हुई है। इससे पहले सरकार ने मामले में सख्त कदम उठाते हुए समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक दिवेश शर्मा को सस्पेंड कर दिया था।

शनिवार को राजद ने मुजफ्फरपुर कांड के खिलाफ दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दिया। विपक्ष के 18 दलों के नेता इस धरने में पहुंचे थे। इस दौरान तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में जंगल राज नहीं राक्षस राज है। वहां रावण सीता माता का अपरहण कर रहा है। दुर्योधन द्रोपदी का चीर हरण कर रहा है। उन्होंने कहा कि बालिका गृह में सरकार के नाक के नीचे सब हो रहा था। बालिका गृह में उन बच्चियों को रखा जाता है, जिसका कोई नहीं।

{ यह भी पढ़ें:- मुजफ्फरपुर कांड: सीबीआई के राडार पर आए कई सफेदपोश, गिर सकती है गाज }

पटना। बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर जिले के बालिका गृह की 34 नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म के खिलाफ कड़े कदम उठाने की विपक्ष की मांग के चलते राज्य की बाल संरक्षण इकाई के छह अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। राज्य के सामाजिक कल्याण विभाग ने इस आधार पर इन छह सहायक निदेशकों को निलंबित किया है क्योंकि उन्होंने आश्रय गृह में बच्चियों के साथ दुर्व्यवहार की सूचना मिलने के बावजूद कार्रवाई नहीं की। समाज कल्याण विभाग के निदेशक राज…
Loading...