पटना शेल्टर होम केस: चार के खिलाफ FIR दर्ज, कोषाध्यक्ष-सचिव गिरफ्तार

पटना शेल्टर होम केस: चार के खिलाफ FIR दर्ज, कोषाध्यक्ष-सचिव गिरफ्तार
पटना शेल्टर होम केस: चार के खिलाफ FIR दर्ज, कोषाध्यक्ष-सचिव गिरफ्तार

नई दिल्ली। पटना के शेल्टर होम की दो लड़कियों की मौत ने एक बार फिर से बिहार के सरकारी तंत्र पर सवाल खड़े कर दिये हैं रविवार को दो युवतियों की मौत का मामला सामने आने के बाद प्रशासन कोई कोर-कसर छोड़ने के मूड में नहीं है। पुलिस ने शेल्टर होम की कोषाध्यक्ष मनीषा दयाल, सचिव चिरंतम समेत चार लोगों के खिलाफ राजीव नगर थाने में मामला दर्ज हुआ है। इनमें से मनीषा और चिरंतम को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Patna Patna Shelter Home Case These Reasons Are Rising Up On Government Machinery And Administration :

पटना के आसरा शेल्टर होम की दो लड़कियों को तबीयत खराब होने के बाद रविवार को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) ले जाया गया था जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन ने बताया कि दोनों लड़कियों की मौत अस्पताल पहुंचने से पहले हो गई थी। दोनों लड़कियों की मौत 10 अगस्त की रात को ही हो गई थी जबकि उन्हें 12 अगस्त को अस्पताल ले जाया गया। पोस्टमार्टम में एक युवती की बीमारी से मौत की पुष्टि हुई है तो दूसरी युवती की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।

दोनों युवतियों की मौत की जानकारी पुलिस को नहीं दी गई और मामले का खुलासा 24 घंटे बाद हुआ। इस मौत के बाद आसरा शेल्टर होम फिर से विवादों में आ गया है। जिस शेल्टर होम में ये घटना हुई है वो पटना के राजीव नगर के नेपाली नगर में है। इससे पहले भी राजीव नगर के इसी आसरा सुधार गृह से शुक्रवार की सुबह कुछ लड़कियों ने भागने की कोशिश की थी जिन्हें समय रहते पकड़ लिया गया था।

इस बात की जानकारी पुलिस तक पहुंची थी जिसके बाद राजीव नगर थाना की पुलिस ने तमाम पहलुओं पर जांच शुरू की थी। लेकिन पुलिस की तफ्तीश के दो दिन बाद ही इसी शेल्टर होम की दो युवतियों की मौत ने कई सवाल एक साथ खड़े कर दिये हैं।

नई दिल्ली। पटना के शेल्टर होम की दो लड़कियों की मौत ने एक बार फिर से बिहार के सरकारी तंत्र पर सवाल खड़े कर दिये हैं रविवार को दो युवतियों की मौत का मामला सामने आने के बाद प्रशासन कोई कोर-कसर छोड़ने के मूड में नहीं है। पुलिस ने शेल्टर होम की कोषाध्यक्ष मनीषा दयाल, सचिव चिरंतम समेत चार लोगों के खिलाफ राजीव नगर थाने में मामला दर्ज हुआ है। इनमें से मनीषा और चिरंतम को गिरफ्तार कर लिया गया है।पटना के आसरा शेल्टर होम की दो लड़कियों को तबीयत खराब होने के बाद रविवार को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) ले जाया गया था जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन ने बताया कि दोनों लड़कियों की मौत अस्पताल पहुंचने से पहले हो गई थी। दोनों लड़कियों की मौत 10 अगस्त की रात को ही हो गई थी जबकि उन्हें 12 अगस्त को अस्पताल ले जाया गया। पोस्टमार्टम में एक युवती की बीमारी से मौत की पुष्टि हुई है तो दूसरी युवती की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।दोनों युवतियों की मौत की जानकारी पुलिस को नहीं दी गई और मामले का खुलासा 24 घंटे बाद हुआ। इस मौत के बाद आसरा शेल्टर होम फिर से विवादों में आ गया है। जिस शेल्टर होम में ये घटना हुई है वो पटना के राजीव नगर के नेपाली नगर में है। इससे पहले भी राजीव नगर के इसी आसरा सुधार गृह से शुक्रवार की सुबह कुछ लड़कियों ने भागने की कोशिश की थी जिन्हें समय रहते पकड़ लिया गया था।इस बात की जानकारी पुलिस तक पहुंची थी जिसके बाद राजीव नगर थाना की पुलिस ने तमाम पहलुओं पर जांच शुरू की थी। लेकिन पुलिस की तफ्तीश के दो दिन बाद ही इसी शेल्टर होम की दो युवतियों की मौत ने कई सवाल एक साथ खड़े कर दिये हैं।