1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Paush Amavasya 2021: पौष माह की अमावस्या को करें तिल दान,नदी के किनारे, तीर्थ स्थलों और मंदिरों में किया जा सकता है दान

Paush Amavasya 2021: पौष माह की अमावस्या को करें तिल दान,नदी के किनारे, तीर्थ स्थलों और मंदिरों में किया जा सकता है दान

हिंदू पंचांग के अनुसार, पौष माह दसवां महीना है। पौष माह की अमावस्या की यह तिथि देवताओं की पूजा करने और मृत पूर्वजों के लिए अनुष्ठान करने के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Paush Amavasya 2021: हिंदू पंचांग के अनुसार, पौष माह दसवां महीना है। पौष माह की अमावस्या की यह तिथि देवताओं की पूजा करने और मृत पूर्वजों के लिए अनुष्ठान करने के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। अमावस्या तिथि पितरों को समर्पित होती है।  ऐसी मान्यता है कि इस माह में पितरों के निमित्त पिंड दान करने से उन्हें भटकना नहीं पड़ता और वे सीधा बैकुंठ की ओर प्रस्थान कर जाते हैं।  हर माह कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि अमावस्या ही होती है और उसके बाद शुक्ल पक्ष  की शुरुआत हो जाती है।
पौष माह  की अमावस्या (Amavasya) नए साल में 2 जनवरी को पड़ेगी। पौष मास को सौभाग्य लक्ष्मी के रूप में भी जाना जाता है। शास्त्रों और हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि पौष अमावस्या की पूर्व संध्या पर धन लक्ष्मी और धन्य लक्ष्मी की पूजा करना शुभ होता है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने से विशेष आर्शिवाद प्राप्त होता है।

पढ़ें :- Jaya Parvati Vrat 2022 Date : जया पार्वती व्रत का पालन करने से मिलता है अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद, इस तिथि को की जाती है माता पार्वती की पूजा

पौष अमावस्या शुभ मुहूर्त 

पौष अमावस्या तिथि : 2 जनवरी, 2022, रविवार
पौष अमावस्या प्रारंभ : 2 जनवरी सुबह 3 बजकर 43 मिनट से शुरू होकर
पौष अमावस्या समाप्त : 3 जनवरी सुबह 5 बजकर 26 मिनट पर तक

जो व्यक्ति शनि दोष या पितृ दोष से पीड़ित हैं, उनके लिए पौष अमावस्या मृत पूर्वजों के श्राद्ध समारोहों को के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। पूर्वजों का आशीर्वाद लेने के लिए तिल दान, वस्त्र दान, अन्न दान, पिंडदान या किसी अन्य प्रकार का दान नदी के किनारे, तीर्थ स्थलों और मंदिरों में  किया जा सकता है। ऐसे सभी कार्य विद्वान पुजारियों के मार्गदर्शन में किए जाने चाहिए ताकि वे सही तरीके से हों और इससे अधिकतम लाभ प्राप्त हो सकें।

पढ़ें :- 28 June 2022 Ka Panchang : आज आषाढ़ कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि है, करें हनुमान जी महाराज की पूजा
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...