मोदी पर महबूबा मुफ्ती का पलटवार- ‘कश्‍मीर खतरे में हैं तो इस खतरे को छोड़ क्‍यों नहीं देते PM’

mahbooba
मोदी पर महबूबा मुफ्ती का पलटवार- 'कश्‍मीर खतरे में हैं तो इस खतरे को छोड़ क्‍यों नहीं देते PM'

नई दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार किया है। शनिवार को उन्‍होंने कहा, ‘अगर पीएम को लगता है कि कश्‍मीर खतरे में है तो फिर वह इस खतरे को छोड़ दें। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि ‘अनुच्‍छेद-370 ही जम्‍मू-कश्‍मीर और भारत के संबंधों का आधार है।

Pdp President Mehbooba Mufti Said Article 370 Is Basis Of Our Relationship With India :

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी(पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कांग्रेस और नैशनल कॉन्‍फ्रेंस (एनसी) को भी नहीं बख्‍शा। उन्‍होंने दोनों पार्टियों पर आर्टिकल 370 को कमजोर करने का आरोप लगाया है। यह आर्टिकल जम्मू -कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करता है। यहां पत्रकारों से वार्ता में

महबूबा ने कहा, ‘कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने 2008 में अमरनाथ श्राइन बोर्ड को हजारों कनाल भूमि आवंटित कर आर्टिकल 370 को कमजोर किया था और एनसी ने 1975 में वजीर-ए-आजम और सदर-ए-रियासत का खिताब खत्म कर दिया था।’

पीडीपी अध्यक्ष ने कहा कि यह उनकी पार्टी थी, जिसने बीजेपी के साथ राज्य में गठबंधन सरकार के दौरान आर्टिकल 370 और 35ए को बचाया था। महबूबा अनंतनाग संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं, जहां तीन चरणों में होने वाले मतदान का पहला चरण 23 अप्रैल को हुआ था। दूसरे चरण का मतदान 29 अप्रैल को और तीसरे और अंतिम चरण का मतदान छह मई को होना है। महबूबा के सामने मुख्य चुनौती कांग्रेस के गुलाम अहमद मीर और एनसी उम्मीदवार रिटायर्ड जज हसनैन मसूदी से है।

नई दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार किया है। शनिवार को उन्‍होंने कहा, 'अगर पीएम को लगता है कि कश्‍मीर खतरे में है तो फिर वह इस खतरे को छोड़ दें। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 'अनुच्‍छेद-370 ही जम्‍मू-कश्‍मीर और भारत के संबंधों का आधार है। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी(पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कांग्रेस और नैशनल कॉन्‍फ्रेंस (एनसी) को भी नहीं बख्‍शा। उन्‍होंने दोनों पार्टियों पर आर्टिकल 370 को कमजोर करने का आरोप लगाया है। यह आर्टिकल जम्मू -कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करता है। यहां पत्रकारों से वार्ता में महबूबा ने कहा, 'कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने 2008 में अमरनाथ श्राइन बोर्ड को हजारों कनाल भूमि आवंटित कर आर्टिकल 370 को कमजोर किया था और एनसी ने 1975 में वजीर-ए-आजम और सदर-ए-रियासत का खिताब खत्म कर दिया था।' पीडीपी अध्यक्ष ने कहा कि यह उनकी पार्टी थी, जिसने बीजेपी के साथ राज्य में गठबंधन सरकार के दौरान आर्टिकल 370 और 35ए को बचाया था। महबूबा अनंतनाग संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं, जहां तीन चरणों में होने वाले मतदान का पहला चरण 23 अप्रैल को हुआ था। दूसरे चरण का मतदान 29 अप्रैल को और तीसरे और अंतिम चरण का मतदान छह मई को होना है। महबूबा के सामने मुख्य चुनौती कांग्रेस के गुलाम अहमद मीर और एनसी उम्मीदवार रिटायर्ड जज हसनैन मसूदी से है।