पावा शेल्स हुई बेअसर, कश्मीर में फिर होगी पैलेट गन की वापसी

जम्मू| सेना ने कहा है कि जरुरत पड़ने पर वह फिर से कश्मीर में पैलेट गन का इस्तेमाल करेगी| सेना के एक अधिकारी ने कहा कि पावा शेल्स प्रदर्शनकारियों पर ज्यादा असरदार साबित नहीं हो रहे हैं जिसको देखते हुए कुछ बदलावों के साथ पैलेट गन को फिर से इस्तेमाल में लाने का फैसला किया गया है| हालांकि उन्होंने यह भी साफ किया कि पैलेट गन से इस बार किसी के शरीर के ऊपरी हिस्से को निशाना नहीं बनाया जाएगा, इसे केवल पैरों पर टारगेट किया जाएगा|




सीआरपीएफ के डीजी दुर्गा प्रसाद ने बताया कि आतंकवाद विरोधी कार्रवाई के पहले या बाद में होने वाले प्रदर्शनों के दौरान अब पैलेट गन का फिर से इस्तेमाल किया जाएगा| हालांकि यह पेलेट गन का बदला हुआ रूप होगा|




नये बदलाव वाले पैलेट गन में एक ‘डिफलेक्टर’ (मार्ग बदलने वाला उपकरण) होगा, जो बंदूक की नली के सिरे पर लगा होगा, ताकि छरें को ऊपर जाने से रोका जा सके| बल ने बीएसएफ की एक विशेष कार्यशाला को इन बंदूकों की नली के सिरे पर धातु के बने डिफलेक्टर लगाने का काम सौंपा है ताकि र्छे शरीर पर पेट से ऊपर के हिस्से पर नहीं लगे|