जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 14 पहुंची, दो दर्जन अस्पताल में भर्ती, सीएम योगी घटना से नाराज

b

बाराबंकी। यूपी के बाराबंकी जिले में रामनगर थाना क्षेत्र के रानीगंज में जहरीली शराब कांड में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। अब तक 14 की मौत हो चुकी है जबकि कई गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है। पुलिस ने शराब कांड में सेल्स मैन सुनील को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की जांच के लिए आबकारी आयुक्त पी गुरू प्रसाद, ज्वाइंट कमिश्नर आबकारी हरिश्चंद्र और आइर्जी अयोध्या डॉ संजीव कुमार जिले में पहुंच चुके हैं।

People Die From Poisonous Liquor In Barabanki Of Uttar Pradesh 2 :

घटना पर यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्घार्थनाथ सिंह ने दुख जताया है। उन्होंने बताया कि 16 लोगों को केजीएमयू रेफर किया गया। बलरामपुर व लोहिया अस्पताल में भी मरीजों के लिए व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जांच में किसी को भी न बख्शने का आदेश दिया है। अगर कहीं राजनीतिक दृष्टि से षडयंत्र किया गया है तो इसे भी देखा जाएगा। मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा राज्य सरकार ने की है।

वहीं मामले की जांच के लिए कमिश्नर, आईजी अयोध्या और आयुक्त आबकारी विभाग की जांच समिति बनाई गई है। समिति अगले 48 घंटे में जांच रिपोर्ट देगी। घटना की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी उदयभानु त्रिपाठी, एसपी अजय साहनी अन्य अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंच कर मामले की जांच शुरू कर दी है। उधर एसपी ने प्रभारी निरीक्षक रामनगर, हल्का दारोगा और पांच सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।

सीओ और आबकारी विभाग के अधिकारियों को निलंबित करने के लिए संस्तुति की है। देशी शराब के ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मृतकों में पिता व उसके तीन पुत्रों समेत एक ही परिवार के चार लोगों की मौत पर पूरे रानीगंज में कोहराम मचा हुआ है।

सोमवार रात रामनगर थाना क्षेत्र के रानीगंज स्थित सरकारी देशी शराब की दुकान से करीब तीस लोगों ने शराब खरीद कर पी थी। इसके कुछ ही देर बाद सभी की हालत बिगडऩे लगी। मुकेश की घर पर ही मौत हो गई। अन्य की हालत बिगडऩे पर उन्हें सीएचसी सूरतगंज, रामनगर और फतेहपुर में भर्ती कराया गया।

इनमें से ग्यारह लोगों की हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल भेजा गया है। जिसमें करीब दस लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गई। उधर घटना की जानकारी मिलते ही डीएम उदयभानु त्रिपाठी एसपी अजय साहनी समेत विभागीय अधिकारियों के साथ गांव पहुंच गए। और मामले की जांच शुरू कर दी। एसपी के आदेश पर ठेकेदार दानवीर सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वहीं जिले की सभी शराब की दुकानों पर जांच शुरू कर दी गई है।

बाराबंकी। यूपी के बाराबंकी जिले में रामनगर थाना क्षेत्र के रानीगंज में जहरीली शराब कांड में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। अब तक 14 की मौत हो चुकी है जबकि कई गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है। पुलिस ने शराब कांड में सेल्स मैन सुनील को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की जांच के लिए आबकारी आयुक्त पी गुरू प्रसाद, ज्वाइंट कमिश्नर आबकारी हरिश्चंद्र और आइर्जी अयोध्या डॉ संजीव कुमार जिले में पहुंच चुके हैं। घटना पर यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्घार्थनाथ सिंह ने दुख जताया है। उन्होंने बताया कि 16 लोगों को केजीएमयू रेफर किया गया। बलरामपुर व लोहिया अस्पताल में भी मरीजों के लिए व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जांच में किसी को भी न बख्शने का आदेश दिया है। अगर कहीं राजनीतिक दृष्टि से षडयंत्र किया गया है तो इसे भी देखा जाएगा। मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा राज्य सरकार ने की है। वहीं मामले की जांच के लिए कमिश्नर, आईजी अयोध्या और आयुक्त आबकारी विभाग की जांच समिति बनाई गई है। समिति अगले 48 घंटे में जांच रिपोर्ट देगी। घटना की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी उदयभानु त्रिपाठी, एसपी अजय साहनी अन्य अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंच कर मामले की जांच शुरू कर दी है। उधर एसपी ने प्रभारी निरीक्षक रामनगर, हल्का दारोगा और पांच सिपाहियों को निलंबित कर दिया है। सीओ और आबकारी विभाग के अधिकारियों को निलंबित करने के लिए संस्तुति की है। देशी शराब के ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मृतकों में पिता व उसके तीन पुत्रों समेत एक ही परिवार के चार लोगों की मौत पर पूरे रानीगंज में कोहराम मचा हुआ है। सोमवार रात रामनगर थाना क्षेत्र के रानीगंज स्थित सरकारी देशी शराब की दुकान से करीब तीस लोगों ने शराब खरीद कर पी थी। इसके कुछ ही देर बाद सभी की हालत बिगडऩे लगी। मुकेश की घर पर ही मौत हो गई। अन्य की हालत बिगडऩे पर उन्हें सीएचसी सूरतगंज, रामनगर और फतेहपुर में भर्ती कराया गया। इनमें से ग्यारह लोगों की हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल भेजा गया है। जिसमें करीब दस लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गई। उधर घटना की जानकारी मिलते ही डीएम उदयभानु त्रिपाठी एसपी अजय साहनी समेत विभागीय अधिकारियों के साथ गांव पहुंच गए। और मामले की जांच शुरू कर दी। एसपी के आदेश पर ठेकेदार दानवीर सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वहीं जिले की सभी शराब की दुकानों पर जांच शुरू कर दी गई है।