1. हिन्दी समाचार
  2. महाराष्ट्र के लोग हो जाएं सवाधान, भूल से भी न करें ऐसे काम, तबाही मचा सकता है साइक्लोन निसर्ग

महाराष्ट्र के लोग हो जाएं सवाधान, भूल से भी न करें ऐसे काम, तबाही मचा सकता है साइक्लोन निसर्ग

People Of Maharashtra Should Be Careful Do Not Do Such Work Even By Mistake Cyclone May Cause Havoc

मुंबई। महाराष्ट्र में चक्रवात निसर्ग बुधवार दोपहर एक बजे से तीन बजे के बीच दस्तक देने वाला है। इससे पहले ही महाराष्ट्र के कई तटीय इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश होने लगी है। आने वाले घंटों में चक्रवात के और तीव्र होने की आशंका है। इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवात निसर्ग को लेकर आम लोगों के लिए कुछ अहम जानकारियां दी हैं।

पढ़ें :- नवनीत सहगल को मिली सूचना विभाग की कमान, अवनीश अवस्थी से लिया गया वापस

महाराष्ट्र सरकार ने लोगों से चक्रवात के दौरान कुछ चीजों को करने और कुछ को न करने के लिए कहा है। सरकार ने कहा है कि चक्रवात से पहले अगर घर के बाहर कुछ ऐसी चीजें रखी हैं, जिन्हें तेज हवाओं में क्षति पहुंच सकती है तो उन्हें या तो अच्छे से बांध दें या फिर उन्हें घर के अंदर रख लें।

महत्वपूर्ण दस्तावेजों और ज्वेलरी को किसी प्लास्टिक बैग में रख लें। रेडियो और टीवी पर आने वाले चक्रवात निसर्ग को लेकर अपडेट्स के बारे में जानकारी रखें। वहीं, अपने मोबाइल फोन, लैपटॉप और अन्य महत्वपूर्ण चीजों को चार्ज करके रखें।

सरकार के द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, साइक्लोन के आने से पहले इमरजेंसी किट को तैयार रखें। खिड़कियों से उचित दूरी बनाए रखें। वहीं, घर की कुछ खिड़कियों को बंद कर दें और कुछ को खोल दें ताकि हवा अच्छे से आर पार आ जा सके।

पढ़ें :- हाथरस केस को लेकर बीजेपी विधायक ने राज्यपाल को लिखा पत्र, कहा-डीजीपी-डीएम-एसएसपी पर चले हत्या का केस

घर के कोनों से दूर रहें और जितना हो सके, उतना कमरे के बीच में ही रहें। वहीं, अगर परेशानी ज्यादा आती है तो फिर किसी स्टूल या फिर टेबल के नीचे उसे अच्छी तरह से पकड़कर बैठ जाएं। अगर आप खुले में रह रहे हैं और आपके पास समय है तो फिर नजदीकी किसी जगह पर चलें जाएं जहां छत मिल सके। इसके अलावा पीने वाले पानी को भी स्टोर करके रख लें। इसके अलावा मछुआरों से कहा गया है कि वे अपनी नाव को अच्छी तरह से बांध दें। इसके साथ ही अपने साथ रेडियो सेट भी रखें।

जानिए चक्रवात के दौरान क्या न करें

सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, चक्रवात से जुड़ी अफवाहों पर बिल्कुल भी ध्यान न दें। इस दौरान गाड़ी भी न चलाएं। निर्माणधीन इमारतों से दूर रहें। घायल लोगों को तब तक कहीं और न ले जाएं, तब तक उन्हें वहां ले जाना पूरी तरह से सुरक्षित न हो। मछुआरे समुद्र के किनारे न जाएं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...