यूपी: मेरठ में आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या, लोगों में आक्रोश

meeruth

लखनऊ। यूपी के मेरठ जिले में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता का शव बरामद किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। मृतक की पहचान सुनील गर्ग के रूप में की गई है। वह लोहे के एक मशहूर व्यापारी भी थे। उन्हें अंतिम बार रविवार को भाजपा के नगर निगम प्रत्याशी का चुनाव प्रचार करते देखा गया था।

People Of Meerut In Anger After Murder Of Rss Worker :

सुनील गर्ग भाजपा और आरएसएस कार्यकर्ता थे। पुलिस अधीक्षक मानसिंह ने बताया कि मृतक के चेहरे पर धारदार हथियार से हमले के निशान मिले हैं। उनकी मोटरसाइकिल एक पार्किंग से बरामद कर ली गई है। उन्होंने बताया कि हत्या होने से पहले वह कहां-कहां गए और किन लोगों से मिले इसकी जानकारी एकत्र की जा रही है। जल्द ही इस मामले के आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

इधर, शहर के भाजपा और आरएसएस कार्यकर्ताओं ने पुलिस को जल्द से जल्द इस हत्याकांड को सुलझाने की चेतावनी दी है। यूपी से पहले पंजाब में कई आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई। बीते महीने अमृतसर में हिंदू सुरक्षा समिति के नेता विपिन कुमार को सरे बाजार गोलियों से भून दिया गया था। पूरी वारदाता सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी।

लखनऊ। यूपी के मेरठ जिले में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता का शव बरामद किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। मृतक की पहचान सुनील गर्ग के रूप में की गई है। वह लोहे के एक मशहूर व्यापारी भी थे। उन्हें अंतिम बार रविवार को भाजपा के नगर निगम प्रत्याशी का चुनाव प्रचार करते देखा गया था।सुनील गर्ग भाजपा और आरएसएस कार्यकर्ता थे। पुलिस अधीक्षक मानसिंह ने बताया कि मृतक के चेहरे पर धारदार हथियार से हमले के निशान मिले हैं। उनकी मोटरसाइकिल एक पार्किंग से बरामद कर ली गई है। उन्होंने बताया कि हत्या होने से पहले वह कहां-कहां गए और किन लोगों से मिले इसकी जानकारी एकत्र की जा रही है। जल्द ही इस मामले के आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे।इधर, शहर के भाजपा और आरएसएस कार्यकर्ताओं ने पुलिस को जल्द से जल्द इस हत्याकांड को सुलझाने की चेतावनी दी है। यूपी से पहले पंजाब में कई आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई। बीते महीने अमृतसर में हिंदू सुरक्षा समिति के नेता विपिन कुमार को सरे बाजार गोलियों से भून दिया गया था। पूरी वारदाता सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी।