सड़क हादसे में घायलों को अस्पताल पहुंचाने वाले होंगे सम्मानित, मिलेगा 2500 का पुरस्कार

i

पटना। सड़क दुर्घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाने वालों को अब प्रशासन पुरस्कृत करेगी। शुक्रवार को पटना जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में डीएम कुमार रवि ने यह घोषणा की। उनका कहना था कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को तुरंत नजदीकी अस्पताल में पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की सेवा मुहैया करायी जाए। ऐसी व्यवस्था से जान बचाई जा सकती है। सिविल सर्जन इसे सुनिश्चित कराएं।

Person Who Help Injured Person In Road Accident Will Be Felicitated In Patna :

इसके लिए उन्होंने होर्डिग और पंपलेट का सहारा लेने की बात भी कही है। साथ ही उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति की सहायता करने वाले को चिन्हित कर प्रस्ताव दिया जाए। जिला प्रशासन ऐसे व्यक्तियों को ढाई हजार रुपये नकद राशि देने के साथ ट्रॉफी एवं सर्टिफिकेट प्रदान करेगा।

जिलाधिकारी ने जिला परिवहन पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक यातायात और मोटर यान निरीक्षक को निर्देश दिया कि तेज रफ्तार से वाहन चलाने, शराब का सेवन कर वाहन चलाने वालों के विरूद्ध अभियान चलाकर कारगर कार्रवाई करें। सड़क दुर्घटना में कमी लाने के लिए सड़कों की स्थिति में सुधार लाया जाए।

अधिकांश सड़क दुर्घटनाएं मानवीय भूल के कारण घटित हो रही हैं। सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता अभियान चलाया जाए। यातायात एसपी वनवे रूट की प्लानिंग कर प्रस्ताव शीघ्र उपलब्ध कराएं। घायलों को अस्पताल तक पहुंचाने वाले को 2500 रुपये नकद के साथ ही ट्रॉफी और सर्टिफिकेट देगा जिला प्रशासन।

सिविल सर्जन को व्यवस्था बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। सड़क हादसा होते ही घटनास्थल पर तुरंत एंबुलेंस भेजने के लिए मैकेनिज्म बनाने की बात भी कही गई है। साथ ही रंगहीन जेब्रा क्रॉसिंग को पंद्रह अगस्त तक रंगने की हिदायत भी दी गई है।

पटना। सड़क दुर्घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाने वालों को अब प्रशासन पुरस्कृत करेगी। शुक्रवार को पटना जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में डीएम कुमार रवि ने यह घोषणा की। उनका कहना था कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को तुरंत नजदीकी अस्पताल में पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की सेवा मुहैया करायी जाए। ऐसी व्यवस्था से जान बचाई जा सकती है। सिविल सर्जन इसे सुनिश्चित कराएं। इसके लिए उन्होंने होर्डिग और पंपलेट का सहारा लेने की बात भी कही है। साथ ही उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति की सहायता करने वाले को चिन्हित कर प्रस्ताव दिया जाए। जिला प्रशासन ऐसे व्यक्तियों को ढाई हजार रुपये नकद राशि देने के साथ ट्रॉफी एवं सर्टिफिकेट प्रदान करेगा। जिलाधिकारी ने जिला परिवहन पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक यातायात और मोटर यान निरीक्षक को निर्देश दिया कि तेज रफ्तार से वाहन चलाने, शराब का सेवन कर वाहन चलाने वालों के विरूद्ध अभियान चलाकर कारगर कार्रवाई करें। सड़क दुर्घटना में कमी लाने के लिए सड़कों की स्थिति में सुधार लाया जाए। अधिकांश सड़क दुर्घटनाएं मानवीय भूल के कारण घटित हो रही हैं। सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता अभियान चलाया जाए। यातायात एसपी वनवे रूट की प्लानिंग कर प्रस्ताव शीघ्र उपलब्ध कराएं। घायलों को अस्पताल तक पहुंचाने वाले को 2500 रुपये नकद के साथ ही ट्रॉफी और सर्टिफिकेट देगा जिला प्रशासन। सिविल सर्जन को व्यवस्था बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। सड़क हादसा होते ही घटनास्थल पर तुरंत एंबुलेंस भेजने के लिए मैकेनिज्म बनाने की बात भी कही गई है। साथ ही रंगहीन जेब्रा क्रॉसिंग को पंद्रह अगस्त तक रंगने की हिदायत भी दी गई है।