राहत : नहीं लगेगा पेट्रोल और डीजल कारों पर बैन, होती रहेगी इलेक्ट्रानिक वाहनों के प्रमोशन की पहल

nitin gadkari
राहत : नहीं लगेगा पेट्रोल और डीजल कारों पर बैन, होती रहेगी इलेक्ट्रानिक वाहनों के प्रमोशन की पहल

नई दिल्ली। आटोमोबाइल सेक्टर में आई मंदी के बीच मोदी सरकार ने एक बड़ी राहत दी है। सरकार ने कहा कि पेट्रोल और डीजल वाहनों पर बैन नहीं लगाया जाएगा। हालाकि इसकी घोषणा करते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ये भी कहा कि सरकार इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को प्रोमोट करने के लिए सकारात्मक पहल कर रही है, लेकिन डीजल और पेट्रोल इंजन वाली गाड़ियों को बैन करने या EV (इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल) को सड़कों पर लाने के लिए अभी कोई डेडलाइन तय नहीं की गई है।

Petrol And Diesel Cars Will Not Be Banned Will Continue To Promote Electronic Vehicles :

नितिन गडकरी ने कहा कि कुछ दिनों पहले नीति आयोग की ड्राफ्ट गाइड लाइंस में डीजल और पेट्रोल वाहनों को हटाने के लिए एक समय सीमा तय करने की बात कही गई थी। जिसमें 2023 तक सभी थ्री-व्हीलर्स और 2025 तक 150cc से कम के टू-व्हीलर्स के प्रोडक्शन पर बैन लगाने का सुझाव दिया था।

नीति आयोग के इस फैसले के बाद आए मंदी के बाद ये बयान ऑटो सेक्टर के लिए बड़ी राहत की खबर है। आपको बता दें कि ऑटो इंडस्ट्री में लगातार 9वें महीने गिरावट दर्ज की गई है। ब्रिकी के लिहाज से जुलाई का महीना बीते 18 साल में सबसे खराब रहा। इस दौरान बिक्री में 31 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

नई दिल्ली। आटोमोबाइल सेक्टर में आई मंदी के बीच मोदी सरकार ने एक बड़ी राहत दी है। सरकार ने कहा कि पेट्रोल और डीजल वाहनों पर बैन नहीं लगाया जाएगा। हालाकि इसकी घोषणा करते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ये भी कहा कि सरकार इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को प्रोमोट करने के लिए सकारात्मक पहल कर रही है, लेकिन डीजल और पेट्रोल इंजन वाली गाड़ियों को बैन करने या EV (इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल) को सड़कों पर लाने के लिए अभी कोई डेडलाइन तय नहीं की गई है। नितिन गडकरी ने कहा कि कुछ दिनों पहले नीति आयोग की ड्राफ्ट गाइड लाइंस में डीजल और पेट्रोल वाहनों को हटाने के लिए एक समय सीमा तय करने की बात कही गई थी। जिसमें 2023 तक सभी थ्री-व्हीलर्स और 2025 तक 150cc से कम के टू-व्हीलर्स के प्रोडक्शन पर बैन लगाने का सुझाव दिया था। नीति आयोग के इस फैसले के बाद आए मंदी के बाद ये बयान ऑटो सेक्टर के लिए बड़ी राहत की खबर है। आपको बता दें कि ऑटो इंडस्ट्री में लगातार 9वें महीने गिरावट दर्ज की गई है। ब्रिकी के लिहाज से जुलाई का महीना बीते 18 साल में सबसे खराब रहा। इस दौरान बिक्री में 31 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।