1. हिन्दी समाचार
  2. PF घोटाले के आरोपी पीके गुप्ता व सुधांशु द्विवेदी तीन दिन की पुलिस रिमांड पर

PF घोटाले के आरोपी पीके गुप्ता व सुधांशु द्विवेदी तीन दिन की पुलिस रिमांड पर

Pf Scam Accused Pk Gupta And Sudhanshu Dwivedi On Three Day Police Remand

By बलराम सिंह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पावर कारपोशन लिमिटेड के पीएफ घोटाले में यूपी पावर सेक्टर इम्प्लाइज ट्रस्ट के तत्कालीन सचिव पीके गुप्ता और तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी को पुलिस ने तीन दिन की रिमांड पर ले लिया है। बुधवार को कोर्ट ने पुलिस की अर्जी पर रिमांड पर भेजने का फैसला लिया।

पढ़ें :- गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या: राष्ट्रपति ने कहा-सैनिकों की बहादुरी पर हम सभी देशवासियों को गर्व है

बता दें कि पीएफ के पैसे को डीएचएफएल (दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड) में निवेश करने के लिए जो निर्णय लिया गया उस बैठक में बतौर चेयरमैन संजय अग्रवाल, एमडी एपी मिश्रा, निदेशक वित्त सुधांशु द्विवेदी, निदेशक (कार्मिक प्रबंधन एवं प्रशासन) सत्य प्रकाश पांडेय और सचिव पीके गुप्ता शामिल हुए थे।

इसके पहले मंगलवार को तड़के यूपी पावर कार्पोरेशन (यूपीपीसीएल) के पूर्व एमडी अयोध्या प्रसाद मिश्रा को पुलिस ने उनके आवास से तड़के साढ़े तीन बजे हिरासत में ले लिया। एपी मिश्रा से दिन में कई राउंड ईओडब्ल्यू के अधिकारियों ने पूछताछ की।

ईओडब्ल्यू के डीजी आरपी सिंह ने बताया कि यूपीपीसीएल के पूर्व एमडी को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। पूछताछ और दस्तावेजों के आधार पर प्रथम दृष्टया उनकी संलिप्तता पाई जा रही है। उन्होंने बताया कि रिमांड के दौरान एपी मिश्रा का आमना-सामना पीके गुप्ता और सुधांशु द्विवेदी से कराया जाएगा।

पूछताछ में एपी मिश्रा ने जो जानकारी दी उनका मिलान अभिलेखों से किया जा रहा है। अभिलेखों में छेड़छाड़ के सुबूत भी मिले हैं। आरपी सिंह ने बताया कि दिसंबर 2016 तक राष्ट्रीयकृत बैंकों की एफडी में ही पीएफ की धनराशि का निवेश किया जा रहा था। दिसंबर 2016 में पीएनबी हाउसिंग को फंड देने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया, जो नियम विरुद्घ था।

पढ़ें :- गूगल की Gmail यूर्जस को चेतावनी, शर्तें और नियम ना मानने पर बन्द हो जाएंगी ये सुविधायें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...