पीएफ घोटाला : सरकार के दावे के बाद भी नहीं शुरू हुई CBI जांच, ईओडब्ल्यू भी कार्रवाई से बच रही

uppcl
पीएफ घोटाला : सरकार के दावो के बाद भी नहीं शुरू हुई CBI जांच, ईओडब्ल्यू भी कार्रवाई से बच रही

लखनऊ। यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटाले की सीबीआई जांच अधर में लटक गई है। यूपी सरकार के दावे के बाद भी अभी तक सीबीआई जांच शुरू नहीं हो पाई है। सूत्रों की माने तो सीबीआई जांच के लिए सरकार की तरफ से कोई पैरवी नहीं की जा रही है, जिसके कारण जांच शुरू नहीं हो पा रही है।

Pf Scam Eow Surviving Action Against Three Employees Cbi Investigation Also Hangs :

वहीं, इस मामले की जांच कर रही ईओडब्ल्यू बडे अफसरों को नोटिस देने से बच रही है। साथ ही जांच में तीन कर्मचारियों की भूमिका उजागर होने के बाद भी उन पर कार्रवाई से बच रही है। इन तीनों के सम्बन्ध दो ब्रोकर फर्मों के संचालकों से पाये गए थे। वहीं ईओडब्ल्यू ने यूपीपीसीएल के दो और कर्मचारियों से बुधवार को पूछताछ की।

बता दें किए पीएफ घोटाले में ईओडब्ल्यू अब तक तीन दर्जन से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। इसी कड़ी में उसने पूर्व एमडी एपी मिश्र, निदेशक वित्त सुधांशु द्विवेदी और सचिव प्रवीण कुमार गुप्ता को रिमाण्ड पर भी लिया था। इसके अलावा जेल के अंदर भी बयान लिये थे।

ईओडब्ल्यू के एक अधिकारी का दावा है कि अब तक ब्रोकर फर्मों के बैंक खातों, यूपीपीसीएल के खातों और गिरफ्तार लोगों के बैंक खातों का पूरा ब्योरा मिल गया है। ईओडब्ल्यू ने इनका मिलान किया तो कई तथ्य हाथ लगे हैं। इस मामले में कुछ और सुबूत जुटाने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी। इस कार्रवाई में कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी की जा सकती है।

ईओडब्ल्यू सूत्रों की माने तो घोटाले में शामिल तीन लोगों के खिलाफ लिखापढ़ी पूरी कर ली गई है। ईओडब्ल्यू जल्दी ही इनके खिलाफ चार्जशीट लगाने की तैयारी में है। ईओडब्ल्यू की ओर से दावा किया जा रहा है कि विधिक राय लेने के बाद कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी जायेगी।

लखनऊ। यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटाले की सीबीआई जांच अधर में लटक गई है। यूपी सरकार के दावे के बाद भी अभी तक सीबीआई जांच शुरू नहीं हो पाई है। सूत्रों की माने तो सीबीआई जांच के लिए सरकार की तरफ से कोई पैरवी नहीं की जा रही है, जिसके कारण जांच शुरू नहीं हो पा रही है। वहीं, इस मामले की जांच कर रही ईओडब्ल्यू बडे अफसरों को नोटिस देने से बच रही है। साथ ही जांच में तीन कर्मचारियों की भूमिका उजागर होने के बाद भी उन पर कार्रवाई से बच रही है। इन तीनों के सम्बन्ध दो ब्रोकर फर्मों के संचालकों से पाये गए थे। वहीं ईओडब्ल्यू ने यूपीपीसीएल के दो और कर्मचारियों से बुधवार को पूछताछ की। बता दें किए पीएफ घोटाले में ईओडब्ल्यू अब तक तीन दर्जन से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। इसी कड़ी में उसने पूर्व एमडी एपी मिश्र, निदेशक वित्त सुधांशु द्विवेदी और सचिव प्रवीण कुमार गुप्ता को रिमाण्ड पर भी लिया था। इसके अलावा जेल के अंदर भी बयान लिये थे। ईओडब्ल्यू के एक अधिकारी का दावा है कि अब तक ब्रोकर फर्मों के बैंक खातों, यूपीपीसीएल के खातों और गिरफ्तार लोगों के बैंक खातों का पूरा ब्योरा मिल गया है। ईओडब्ल्यू ने इनका मिलान किया तो कई तथ्य हाथ लगे हैं। इस मामले में कुछ और सुबूत जुटाने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी। इस कार्रवाई में कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी की जा सकती है। ईओडब्ल्यू सूत्रों की माने तो घोटाले में शामिल तीन लोगों के खिलाफ लिखापढ़ी पूरी कर ली गई है। ईओडब्ल्यू जल्दी ही इनके खिलाफ चार्जशीट लगाने की तैयारी में है। ईओडब्ल्यू की ओर से दावा किया जा रहा है कि विधिक राय लेने के बाद कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी जायेगी।