UPPCL में पीएफ घोटाला : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का श्रीकांत शर्मा से सवाल, पूछा-दुबई क्यों गए थे?

ajay kumar
यूपीपीसीएल में पीएफ घोटाला : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का श्रीकांत शर्मा से सवाल, पूछा-दुबई क्यों गए थे?

लखनऊ। यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटाले को लेकर कांग्रेस योगी सरकार पर हमलावार है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक बार फिर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, पीएफ की राशि डीएचएफएल में निवेश करने का मुद्दा केवल भ्रष्टाचार ही नहीं बल्कि देश की सुरक्षा से भी जुड़ा है। अजय कुमार लल्लू ने ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा से सवाल किया कि सितंबर-अक्तूबर 2017 में वह किस प्रयोजन से दुबई गए थे और कैसे कर्मचारियों के पसीने की कमाई का पैसा देश के प्रति संदिग्ध एवं डिफाल्टर कंपनी को दिया गया।

Pf Scam In Uppcl Congress State Presidents Question To Shrikant Sharma Asked Why Did He Go To Dubai :

इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से ऊर्जा मंत्री को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा सितंबर-अक्तूबर 2017 में दुबई क्यों गए थे? वहां उनकी किन-किन लोगों से मुलाकात हुई।

उन्होंने आरोप लगाया कि ऊर्जामंत्री का दौरा उसम समय हुआ जब डीएचएलएल का पैसा कंपनी को दिया गया था।लल्लू ने कहा कि सरकार को बिजली कर्मचारियों के पीएफ निवेश पर श्वेत पत्र जारी करना चाहिए। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि डीएचएफएल से समझौता योगी आदित्यनाथ की सरकार में हुआ है इसलिए मामले में पूरी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की है।

लल्लू ने कहा कि ऊर्जा मंत्री मानहानि के मुकदमे की धमकी देकर 45 हजार कर्मचारियों के पसीने की कमाई को निगल जाना चाहते हैं। आखिर वे इस बात का जवाब क्यों नहीं दे रहे हैं कि उनकी किन गुनहगारों के साथ यारी है।

लखनऊ। यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटाले को लेकर कांग्रेस योगी सरकार पर हमलावार है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक बार फिर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, पीएफ की राशि डीएचएफएल में निवेश करने का मुद्दा केवल भ्रष्टाचार ही नहीं बल्कि देश की सुरक्षा से भी जुड़ा है। अजय कुमार लल्लू ने ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा से सवाल किया कि सितंबर-अक्तूबर 2017 में वह किस प्रयोजन से दुबई गए थे और कैसे कर्मचारियों के पसीने की कमाई का पैसा देश के प्रति संदिग्ध एवं डिफाल्टर कंपनी को दिया गया। इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से ऊर्जा मंत्री को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा सितंबर-अक्तूबर 2017 में दुबई क्यों गए थे? वहां उनकी किन-किन लोगों से मुलाकात हुई। उन्होंने आरोप लगाया कि ऊर्जामंत्री का दौरा उसम समय हुआ जब डीएचएलएल का पैसा कंपनी को दिया गया था।लल्लू ने कहा कि सरकार को बिजली कर्मचारियों के पीएफ निवेश पर श्वेत पत्र जारी करना चाहिए। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि डीएचएफएल से समझौता योगी आदित्यनाथ की सरकार में हुआ है इसलिए मामले में पूरी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की है। लल्लू ने कहा कि ऊर्जा मंत्री मानहानि के मुकदमे की धमकी देकर 45 हजार कर्मचारियों के पसीने की कमाई को निगल जाना चाहते हैं। आखिर वे इस बात का जवाब क्यों नहीं दे रहे हैं कि उनकी किन गुनहगारों के साथ यारी है।