1. हिन्दी समाचार
  2. UPPCL में पीएफ घोटाला : ट्रस्ट के सचिव पीके गुप्ता के बेटे ने निभाई भी ब्रोकर की भूमिका

UPPCL में पीएफ घोटाला : ट्रस्ट के सचिव पीके गुप्ता के बेटे ने निभाई भी ब्रोकर की भूमिका

Pf Scam In Uppcl Trusts Secretary Pk Guptas Son Also Played Broker Role

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटाले की जांच कर रही ईओडब्ल्यू हर दिन नए खुलासे कर रही है। इस मामले में अभी तक तीन लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। ईओडब्ल्यू की जांच में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जांच में सामने आया कि यूपीपीसीएल के महाप्रबंधक और ट्रस्ट के सचिव पीके गुप्ता के बेटे अभिनव गुप्ता ने दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) में निवेश कराने के लिए ब्रोकर की भूमिका निभाई थी।

पढ़ें :- नौतनवां:एक साथ उठी पति-पत्नी की अर्थिया,रो उठा पूरा नगर

यह खुलासा होने के बाद ईओडब्ल्यू अभिनव की तलाश शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि वह अभी घर से फरार है। शुरूआती जांच में सामने आया कि डीएचएफएल में निवेश के लिए ट्रस्ट के सचिव पीके गुप्ता और डीएचएफएल की साठगांठ उजागर हुई। ईओडब्ल्यू की जांच ने तेजी पकड़ी तो पीके गुप्ता के बेटे की भूमिका भी उजागर हुई, जिसमें सामने आया कि अभिनव ने डीएचएफएल से मोटा कमीशन लेकर यूपीपीसीएल से निवेश कराया था।

हालांकि जांच एजेंसी इस पूरे मामले में कड़ी से कड़ी जोड़ने की कोशिश कर रही है। जांच के दौरान पहले ही पता चल चुका है कि ब्रोकर फर्मों के माध्यम से जो निवेश किया गया उसमें अधिकतर ब्रोकर फर्मों का पूर्व में कोई अनुभव नहीं था और वह केवल यूपीपीसीएल के लिए काम कर रही थीं। वहीं, मामले की जांच कर रही ईओडब्ल्यू के अधिकारियों ने डीएचएफएल के तत्कालीन एरिया मैनेजर अमित प्रकाश को कार्यालय में बुलाकर पूछताछ की है।

अमित प्रकाश ही ब्रोकर के माध्यम से यूपीपीसीएल के अधिकारियों से सीधे संपर्क में थे। निवेश को लेकर दिए गए कमीशन और संबंधित शर्तों के बारे ईओडब्ल्यू के अधिकारियों जानकारी ली गई है। साथ ही यूपीपीसीएल के दो और कर्मचारियों को ईओडब्ल्यू के मुख्यालय बुलाकर पूछताछ की गई है।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः 10वें दौर की बातचीत बेनतीजा, 22 जनवरी को होगी अगली बैठक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...