पीएफ घोटाला : प्रियंका गांधी ने सरकार से पूछा-और किन-किन विभागों का पैसा डिफाल्टर कंपनियों में है लगा

priyanka gandhi
पीएफ घोटाला : प्रियंका गांधी ने सरकार से पूछा-और किन-किन विभागों का पैसा डिफाल्टर कंपनियों में है लगा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन (यूपीपीसीएल) में हुए पीएफ घोटाले को लेकर विपक्ष प्रदेश की योगी सरकार पर हमलावार है। कांग्रेस इस मुद्दे पर चौतरफा योगी सरकार को ​घेरने की कोशिश में जुटी है। कांगेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक के बाद एक ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, सरकार को बताना चाहिए कि और किन—किन विभागों को पैसा डिफाल्टर कंपनियों में लगा है।

Pf Scam Priyanka Gandhi Asked The Government And Which Departments Have The Money In The Defaulting Companies :

प्रियंका गांधी यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटोले को लेकर पहले भी सवाल उठा चुकीं हैं। इस पर उन्होंने फिर से ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि, ‘एक खबर के अनुसार भाजपा सरकार बनने के बाद 24 मार्च 2017 को पॉवर कोर्पोरेशन के कर्मियों का पैसा डिफ़ॉल्टर कम्पनी DHFL में लगा। सवाल ये है कि भाजपा सरकार दो साल तक चुप क्यों बैठी रही? कर्मचारियों को ये बताइए कि उनकी गाढ़ी कमाई कैसे मिलेगी?’

प्रियंका ने योगी सरकार से पूछा कि कर्मचारियों की गाढ़ी कमाई आखिर कैसे मिलेगी? इसके साथ ही प्रियंका ने एक और ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि, ‘और किन—किन विभागों का पैसा डिफॉल्टर कंपनियों में लगा है? सारी चीजें अभी सामने लाइए। जवाब तो देना ही होगा, मेहनत की गाढ़ी कमाई का सवाल है।

योगी सरकार ने अखिलेश यादव को ठहराया घोटाले का जिम्मेदार
उधर, इस मामले में योगी सरकार इस मुद्दे पर सपा को दोषी बता रही है। सरकार का कहना है कि, भ्रष्टाचार के रक्तबीज पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीरो टॉलरेंस तलवार के वार से भ्रष्टाचारी त्राहिमाम कर रहे हैं। यूपीपीसीएल के पूर्व एमडी जो अखिलेश यादव जी के नयन तारे थे। इन्हें तीन बार सेवा विस्तार मिला था। हिरासत में लिए गए हैं।’ इसके साथ ही लिखा है कि, ‘तो अखिलेश बाबू, ये रिश्ता क्या कहलाता है।’

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन (यूपीपीसीएल) में हुए पीएफ घोटाले को लेकर विपक्ष प्रदेश की योगी सरकार पर हमलावार है। कांग्रेस इस मुद्दे पर चौतरफा योगी सरकार को ​घेरने की कोशिश में जुटी है। कांगेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक के बाद एक ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, सरकार को बताना चाहिए कि और किन—किन विभागों को पैसा डिफाल्टर कंपनियों में लगा है। प्रियंका गांधी यूपीपीसीएल में हुए पीएफ घोटोले को लेकर पहले भी सवाल उठा चुकीं हैं। इस पर उन्होंने फिर से ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि, 'एक खबर के अनुसार भाजपा सरकार बनने के बाद 24 मार्च 2017 को पॉवर कोर्पोरेशन के कर्मियों का पैसा डिफ़ॉल्टर कम्पनी DHFL में लगा। सवाल ये है कि भाजपा सरकार दो साल तक चुप क्यों बैठी रही? कर्मचारियों को ये बताइए कि उनकी गाढ़ी कमाई कैसे मिलेगी?' https://twitter.com/priyankagandhi/status/1191546496841175040 प्रियंका ने योगी सरकार से पूछा कि कर्मचारियों की गाढ़ी कमाई आखिर कैसे मिलेगी? इसके साथ ही प्रियंका ने एक और ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि, 'और किन—किन विभागों का पैसा डिफॉल्टर कंपनियों में लगा है? सारी चीजें अभी सामने लाइए। जवाब तो देना ही होगा, मेहनत की गाढ़ी कमाई का सवाल है। योगी सरकार ने अखिलेश यादव को ठहराया घोटाले का जिम्मेदार उधर, इस मामले में योगी सरकार इस मुद्दे पर सपा को दोषी बता रही है। सरकार का कहना है कि, भ्रष्टाचार के रक्तबीज पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीरो टॉलरेंस तलवार के वार से भ्रष्टाचारी त्राहिमाम कर रहे हैं। यूपीपीसीएल के पूर्व एमडी जो अखिलेश यादव जी के नयन तारे थे। इन्हें तीन बार सेवा विस्तार मिला था। हिरासत में लिए गए हैं।' इसके साथ ही लिखा है कि, 'तो अखिलेश बाबू, ये रिश्ता क्या कहलाता है।' https://twitter.com/myogioffice/status/1191588616755011585