1. हिन्दी समाचार
  2. फार्मा कंपनी जाइडस कैडिला ने मांगी कोविड-19 के मरीजों पर हैपेटाइटिस ड्रग के क्लिनिकल ट्रायल की मंजूरी

फार्मा कंपनी जाइडस कैडिला ने मांगी कोविड-19 के मरीजों पर हैपेटाइटिस ड्रग के क्लिनिकल ट्रायल की मंजूरी

Pharma Company Zydus Cadila Seeks Approval For Clinical Trial Of Hepatitis Drug On Kovid 19 Patients

दुनिया की जानीमानी भारत स्थित फार्मास्यूटिकल्स कंपनी जाइडस कैडिला की तरफ से कोविड-19 के मरीजों पर एंटी वायरल दवाई ‘Pegylated Interferon Alpha-2b’ के क्लिनिकल ट्रायल के लिए देश के शीर्ष दवा रेगुलेटर ‘ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया’ (डीसीजीआई) को आवेदन कर स्वीकृति मांगी गई है। भारत में अब तक Pegylated Interferon Alpha-2b दवाई का इस्तेमाल हेपेटाइटिस बी और सी के लिए किया जाता रहा है।

पढ़ें :- पिता की मृत्यु के बाद जब विराट ने गले लगा कर कहा की मै हूँ तुम्हारे साथ, भावुक होकर रो पड़े मोहम्मद सिराज

महत्वपूर्ण बात ये है कि चीन और क्यूबा में कोविड-19 मरीजों के लिए Pegylated Interferon Alpha-2b दवाई का इस्तेमाल किया जा रहा है और यह चीन सरकार की तरफ से इलाज के लिए जारी गाइडलाइंस का हिस्सा है।

जाइडस कैडिला कोविड-19 के मरीजों पर प्रभाव को जानने के लिए केन्द्र सरकार के जैव-प्रोद्यौगिकी विभाग पहुंची है। सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि “बातचीत अभी चल रही है। हमारे विशेषज्ञों की समिति जांच कर रही है। आगे के फैसले का इंतजार किया जा रहा है।” उन्होंने बताया कि अमेरिका में जो शोध हुआ है और चीन में हुए क्लिनिकल स्टडी में कोविड-19 के मरीजों पर इस दवाई का काफी प्रभाव दिखा है।

इजरायल सरकार का दवा बनाने का दावा

कोविड-19 से दुनियाभर में लाखों लोगों की मौत हो चुकी है, फिर भी इसका इलाज नहीं मिल पाया है। मगर इस बीच इजरायल के रक्षा मंत्री ने दावा किया है कि उनके देश ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बना ली है। रक्षा मंत्री नैफ्टली बेन्‍नेट ने अपने एक बयान में कहा कि इजरायल के डिफेंस बायोलॉजिकल इंस्‍टीट्यूट ने कोविड-19 का टीका बना लिया है। उन्‍होंने कहा कि हमारी टीम ने कोरोना वायरस को खत्म करने के टीके के विकास का चरण पूरा कर लिया है। यह जानकारी द जेरूसलम पोस्ट ने दी है।

पढ़ें :- चिंता का विषय: इस करोना काल में भी सोना चांदी के भाव छू रहे है आसमान

रिसर्च टीम द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर इजरायल के रक्षा मंत्री नैफ्टली ने बताया कि यह एंटीबॉडी कोरोना वायरस पर हमला करता है और इसे शरीर में खत्म कर देता है। उन्होंने कहा कि संस्थान अब एंटीबॉडी के लिए पेटेंट प्राप्त करने और इसके व्‍यापक पैमाने पर उत्‍पादन के लिए तैयारी कर रहा है। इस मामले में अब इजराइल के डिफेंस बायोलॉजिकल इंस्‍टीट्यूट के साथ रक्षा मंत्रालय समन्वय करेगा। रक्षा मंत्री नैफ्टली बेन्नेट ने सोमवार को कहा कि मुझे बायोलॉजिकल इंस्‍टीट्यूट के कर्मचारियों पर गर्व है, जिन्होंने एक बड़ी सफलता हासिल की है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X