पीएचडी स्‍कॉलर हिलाल अहमद आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल

15-57

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के एक 26 वर्षीय युवक के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने का दावा कश्मीर पुलिस ने किया है। श्रीनगर का रहने वाला पीएचडी स्‍कॉलर हिलाल अहमद डार 13 जून को अपने दोस्तों के साथ एक ट्रैकिंग अभियान के दौरान अचानक से लापता हो गया और और पुलिस के दावे के अनुसार, बाद में उसने हिजबुल जॉइन कर लिया। हालांकि परिवार वाले अपने लड़के के निर्दाेष होने की बात कह रहे हैं।

Phd Scholar Hilal Ahmed Joins Terrorist Organization Hizbul Mujahideen :

दरअसल आइजीपी श्रीनगर विजय कुमार ने यह खुलासा किया कि बेमिना का रहने वाला युवक हिलाल अहमद डार हिजबुल-उल-मुजाहिदीन में शामिल हो गया है। आइजीपी ने यह जानकारी भी दी कि कश्मीर विश्वविद्यालय का छात्र हिलाल गत माह नवाकदल मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल कमांडर जुनैद सहराई का दोस्त था।

परिवार ने किया इनकार
इससे पूर्व परिजनों का कहना था कि उनका बेटा हिलाल अहमद डार 14 जून को घर से गंगल गांदरबल ट्रेकिंग के लिए निकला था। परंतु उसके बाद वह वापस नहीं लौटा। इस बीच उसके परिजनों ने दो से तीन बार कश्मीर प्रेस एनक्लेव के बाहर प्रदर्शन कर जम्मू-कश्मीर पुलिस व प्रशासन से उनके लापता बेटे को वापस लाने के लिए गुहार लगाई। उन्होंने यह भी दावा किया कि उनका बेटा किसी आतंकवादी संगठन में शामिल नहीं हुआ है।

पुलिस प्रशासन कर रहा पहल
बता दें कि जम्मू-कश्मीर के स्थानीय युवकों को आतंकवाद का रास्ता छोड़ घरवापसी करवाने के लिए पुलिस प्रशासन पिछले कुछ सालों से बहुत मेहनत कर रहा है। पुलिस लगातार उन युवकों के परिजनों को अपने बच्चों को समझाने के लिए अपील करती है, जिन्होंने आम जिंदगी को छोड़कर आतंकवाद का रास्ता अपनाया।

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के एक 26 वर्षीय युवक के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने का दावा कश्मीर पुलिस ने किया है। श्रीनगर का रहने वाला पीएचडी स्‍कॉलर हिलाल अहमद डार 13 जून को अपने दोस्तों के साथ एक ट्रैकिंग अभियान के दौरान अचानक से लापता हो गया और और पुलिस के दावे के अनुसार, बाद में उसने हिजबुल जॉइन कर लिया। हालांकि परिवार वाले अपने लड़के के निर्दाेष होने की बात कह रहे हैं। दरअसल आइजीपी श्रीनगर विजय कुमार ने यह खुलासा किया कि बेमिना का रहने वाला युवक हिलाल अहमद डार हिजबुल-उल-मुजाहिदीन में शामिल हो गया है। आइजीपी ने यह जानकारी भी दी कि कश्मीर विश्वविद्यालय का छात्र हिलाल गत माह नवाकदल मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल कमांडर जुनैद सहराई का दोस्त था। परिवार ने किया इनकार इससे पूर्व परिजनों का कहना था कि उनका बेटा हिलाल अहमद डार 14 जून को घर से गंगल गांदरबल ट्रेकिंग के लिए निकला था। परंतु उसके बाद वह वापस नहीं लौटा। इस बीच उसके परिजनों ने दो से तीन बार कश्मीर प्रेस एनक्लेव के बाहर प्रदर्शन कर जम्मू-कश्मीर पुलिस व प्रशासन से उनके लापता बेटे को वापस लाने के लिए गुहार लगाई। उन्होंने यह भी दावा किया कि उनका बेटा किसी आतंकवादी संगठन में शामिल नहीं हुआ है। पुलिस प्रशासन कर रहा पहल बता दें कि जम्मू-कश्मीर के स्थानीय युवकों को आतंकवाद का रास्ता छोड़ घरवापसी करवाने के लिए पुलिस प्रशासन पिछले कुछ सालों से बहुत मेहनत कर रहा है। पुलिस लगातार उन युवकों के परिजनों को अपने बच्चों को समझाने के लिए अपील करती है, जिन्होंने आम जिंदगी को छोड़कर आतंकवाद का रास्ता अपनाया।