PHOTOS: दुल्हन की तरह सज-संवर कर तैयार है मेट्रो

लखनऊ। राजधानी वासियों को मेट्रो में सफर करने का सपना 6 अगस्त यानि बुधवार को साकार हो हो जाएगा। हालांकि वैसे तो लखनऊ में मेट्रो ट्रेन पटरी पर आज से ही दौड़ेगी लेकिन आम जनमानस के लिए यह सुविधा कल से उपलब्ध हो पाएगी। बता दें कि आज मेट्रो ट्रेन को हरी झंडी दिखाई जाएगी। मेट्रो सज-संवर कर बिल्कुल तैयार है, जिसका उद्घाटन सीएम योगी आदित्यनाथ और गृह-मंत्री राजनाथ सिंह हरी झंडी दिखाकर करेंगे। साथ ही पहली बार लखनऊ मेट्रो की सवारी भी करेंगे।

आम लोगों के लिए मेट्रो की सर्विस अगले दिन यानी बुधवार से शुरू हो जाएगी। वहीं, इनॉगरेशन से पहले ही डीजीपी सुलखान सिंह और सभी अफसरों ने मेट्रो की तैयारी का जायजा लिया। दो दिन पहले से ही करीब 40 से 50 वर्कर्स ने मिलकर मेट्रो स्टेशन की सजावट की। बता दें, मेट्रो के 8.30 किलोमीटर के पहले चरण में 8 स्टेशन हैं, बाकी के हिस्से पर अभी काम चल रह है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में हादसों की रेल: डिरेल हुई पैसेंजर ट्रेन, मालगाड़ी का इंजन पटरी से उतरा }

लखनऊ मेट्रो के उद्घाटन की तैयारी रविवार से ही शुरू हो गई थी। पहले चरण के कुल 8.5 किलोमीटर के इस रुट पर दीवाली जैसा नजारा दिख रहा है। जिस मेट्रो ट्रेन में सीएम योगी आदित्यनाथ व गृह मंत्री सफर करेंगे उसे विशेष तरीके से सजावट की जा रही है।

{ यह भी पढ़ें:- योगी आदित्यनाथ समेत पांच मंत्रियो ने ली MLC पद की शपथ }

योगी आदित्यनाथ व राजनाथ सिंह पहली बोगी में बैठकर ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग तक नॉनस्टॉप यात्रा करेंगे। जनता के लिए इसका सफर छह सितंबर से शुरू किया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- गोरखपुर कांड: पुष्पा सेल्स का मालिक मनीष भंडारी गिरफ्तार }

लखनऊ मेट्रो के पहले चरण का काम पूरा करने में तीन वर्ष लगा। पहले चरण में मेट्रो को बनाने में चार हजार मजदूर लगे। इसका काम 790 दिन में पूरा हुआ जबकि 2 करोड़ 53 लाख 16 हजार रुपए रोज खर्च हुआ।

लखनऊ मेट्रो के हर स्टेशन पर यात्रियों को मेट्रो की ऑटोबायोग्राफी सुनाई देगी। मेट्रो स्टेशन पर सुनाई देने वाले स्पेशल मेट्रो रेडियो के जरिए यह ऑटोबायोग्राफी सुनाई जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- योगी के मंत्री PM मोदी से बोले- BJP जितना यूपी में खर्च करती है, उतने की शराब पीती है हमारी बिरादरी }

मेट्रो की सवारी के दौरान आपको लखनऊ का रंग सहज ही दिखाई देगा। हर स्टेशन पर लखनऊ का नवाबी रंग आपको दिखाई देगा।

सीनियर सिटीजन के लिए स्टेशन पर कम ऊंचाई वाले टिकट काउंटर होंगे। मेट्रो की 4 कोचों में एक हजार से अधिक लोग सवारी कर सकेंगे।