1. हिन्दी समाचार
  2. पीयूष गोयल का सोनिया गांधी पर पलटवार, RECP पर दागे ताबड़तोड़ सवाल

पीयूष गोयल का सोनिया गांधी पर पलटवार, RECP पर दागे ताबड़तोड़ सवाल

Piyush Goyal Hit Back At Sonia Gandhi Rebuffed Question On Recp

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने रीजनल कंप्रेहेंसिव इकनॉमिक पार्टनरशिप (आरसीईपी) और फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स (एफटीए) की आलोचना करने पर सोनिया गांधी पर करारा पलटवार किया है। सोनिया गांधी ने कहा है कि इस समझौते से भारत की अर्थव्यवस्था चौपट हो जाएगी।

पढ़ें :- छोटी-छोटी गलतियों को ध्यान दिया जाए तो दुघर्टनाओं पर लगेगी रोक : सीएम योगी

पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने ट्वीट किया, ‘सोनिया गांधी जी आरसीईपी और एफटीए को लेकर अचानक जाग गई हैं। जब आसियान के साथ एफटीए पर 2010 में हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं? जब दक्षिण कोरिया के साथ एफटीए पर 2010 में हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं? जब मलेशिया के साथ एफटीए पर 2011 में हस्ताक्षर हुए थे, जब जापान के साथ 2011 में एफटीए पर हस्ताक्षर हुए थे, तब वह कहां थीं?’

पढ़ें :- कांग्रेस नए साल के कैलेंडर के जरिए पहुंचेगी घर-घर, प्रियंका गांधी की लगी हैं तस्वीरें

उन्होंने ट्वीट किया, ‘वह (सोनिया गांधी) तब कहां थीं जब उनकी सरकार ने आसियान देशों के लिए अपना 74 प्रतिशत बाजार खोल दिया था, लेकिन इंडोनेशिया जैसे अमीर देशों ने भारत के लिए केवल 50 प्रतिशत बाजार खोला था? वह अमीर देशों को भारी छूट देने के खिलाफ क्यों नहीं बोलीं?’

पीयूष गोयल ने का सोनिया गांधी पर पलटवार

पढ़ें :- दारोगा ने दो सिपाहियों के साथ मिलकर व्यापारियों से की थी लूट

गोयल ने ट्वीट किया,” उस समय सोनिया जी कहां थी, जब उनकी सरकार 2007 में भारत-चीन एफटीए पर विचार करने पर सहमत हुई थीं? मुझे उम्मीद है कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ़ मनमोहन सिंह उनके इस अपमान के खिलाफ बोलेंगे।”  

सोनिया ने आरसीईपी को लेकर बोला था सरकार पर हमला?

आपको बता दें कि सोनिया गांधी ने आरसीईपी को किसानों, दुकानदारों और छोटे उद्यमियों के खिलाफ बताया था। साथ ही आर्थिक मंदी को लेकर मोदी सरकार पर करारा प्रहार किया था।

क्या है आरसीईपी और एफटीए?

आरसीईपी एक एफटीए यानी मुक्त व्यापार समझौता है. इस मेगा मुक्त व्यापार समझौते पर आसियान सदस्य देशों (ब्रुनेई, दारुस्सलाम, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम) और आस्ट्रेलिया, चीन, भारत, जापान, दक्षिण कोरिया और न्यूजीलैंड के बीच बातचीत चल रही है।

जिन मुद्दों पर बातचीत चल रही है, उनमें वस्तु एवं सेवा कारोबार, निवेश, अर्थव्यवस्था और तकनीकी सहयोग, बौद्धिक संपदा, प्रतिस्पर्धा, विवाद समाधान, ई-कॉमर्स और लघु एवं मध्यम उद्यम से जुड़े मुद्दे शामिल हैं। कई दौर की बातचीत हो चुकी है और इस समझौते पर हस्ताक्षर होने की संभावना है।

पढ़ें :- राम मंदिर निर्माण के लिए गौतम गंभीर ने दान की बड़ी रकम, कही ये बातें...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...