रेलवे भर्ती परीक्षा 2018: रेल मंत्री ने की बढ़ी हुयी फीस वापस करने की घोषणा

,piyush goyal , रेल मंत्री पीयूष गोयल
रेलवे में जल्द निकलेगी बम्पर वैकेंसी, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने की घोषणा

नई दिल्ली। रेलवे में निकाली गई 90,000 भर्तियों को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने स्पष्ट करते हुए बताया कि रेलवे भर्ती परीक्षा के लिए एग्जामिनेशन फीस नहीं बढ़ाई गई है। उन्होंने वादा करते हुए कहा कि जितने भी उम्मीदवार रेलवे भर्ती की परीक्षा देते है उन्हे ये बढ़ी हुई फीस बाद में वापस कर दी जाएगी।

Piyush Goyal Railway Railway Recruitment Examination Piyush Goyal Said Fee Will Be Refunded :

बता दें कि इस बार जो 90,000 भर्तियां निकाली हैं जिसमें आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 250 रुपये और अनारक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 500 रुपये एग्जामिनेशन फीस रखी गई है। जबकि इससे पहले जो भर्तियां निकाली गई थीं, उनमें अनारक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 100 रुपये फीस रखी गई थी जबकि आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को फीस से छूट थी। उन्हें परीक्षा के लिए कोई फीस नहीं देनी होती थी। ऐसे में रेलवे भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं में काफी असंतोष था। इस पर पीयूष गोयल ने कहा कि ऐसा इसलिए किया गया है कि परीक्षा के लिए गंभीर उम्मीदवार ही आवेदन करें। बहुत बार कम शुल्क की वजह से लोग आवेदन कर देते हैं लेकिन परीक्षा नहीं देते। ऐसे में सरकार को नुकसान होता है। भर्ती परीक्षा आयोजित करने में सरकार का काफी पैसा खर्च होता है। अगर उम्मीदवार परीक्षा देता है तो बढ़ी हुई फीस वापस कर दी जाएगी।

रेल मंत्री ने यह भी बताया कि कई बार अगर शुल्क न रखा जाए तो बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी आवेदन करते हैं, जो गंभीर नहीं होते और उस स्थिति में परीक्षा के दिन ऐसे आवेदक परीक्षा देने की जहमत नहीं उठाते। ऐसी स्थिति में परीक्षा के लिए सरकार ने जो इंतजाम किये होते हैं, उन पर खर्च हुई राशि बर्बाद हो जाती है। वहीं उन्होने कहा कि अगर उम्मीदवार परीक्षा देता है तो आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को उनकी पूरी फीस यानी 250 रुपये वापस कर दी जाएगी जबकि अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपये के शुल्क में से 400 रुपये वापस कर दिए जाएंगे।

नई दिल्ली। रेलवे में निकाली गई 90,000 भर्तियों को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने स्पष्ट करते हुए बताया कि रेलवे भर्ती परीक्षा के लिए एग्जामिनेशन फीस नहीं बढ़ाई गई है। उन्होंने वादा करते हुए कहा कि जितने भी उम्मीदवार रेलवे भर्ती की परीक्षा देते है उन्हे ये बढ़ी हुई फीस बाद में वापस कर दी जाएगी।बता दें कि इस बार जो 90,000 भर्तियां निकाली हैं जिसमें आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 250 रुपये और अनारक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 500 रुपये एग्जामिनेशन फीस रखी गई है। जबकि इससे पहले जो भर्तियां निकाली गई थीं, उनमें अनारक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 100 रुपये फीस रखी गई थी जबकि आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को फीस से छूट थी। उन्हें परीक्षा के लिए कोई फीस नहीं देनी होती थी। ऐसे में रेलवे भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं में काफी असंतोष था। इस पर पीयूष गोयल ने कहा कि ऐसा इसलिए किया गया है कि परीक्षा के लिए गंभीर उम्मीदवार ही आवेदन करें। बहुत बार कम शुल्क की वजह से लोग आवेदन कर देते हैं लेकिन परीक्षा नहीं देते। ऐसे में सरकार को नुकसान होता है। भर्ती परीक्षा आयोजित करने में सरकार का काफी पैसा खर्च होता है। अगर उम्मीदवार परीक्षा देता है तो बढ़ी हुई फीस वापस कर दी जाएगी।रेल मंत्री ने यह भी बताया कि कई बार अगर शुल्क न रखा जाए तो बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी आवेदन करते हैं, जो गंभीर नहीं होते और उस स्थिति में परीक्षा के दिन ऐसे आवेदक परीक्षा देने की जहमत नहीं उठाते। ऐसी स्थिति में परीक्षा के लिए सरकार ने जो इंतजाम किये होते हैं, उन पर खर्च हुई राशि बर्बाद हो जाती है। वहीं उन्होने कहा कि अगर उम्मीदवार परीक्षा देता है तो आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को उनकी पूरी फीस यानी 250 रुपये वापस कर दी जाएगी जबकि अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपये के शुल्क में से 400 रुपये वापस कर दिए जाएंगे।