14 सितंबर को अहमदाबाद में होगा बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास

14 सितंबर को अहमदाबाद में होगा बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास

नई दिल्ली। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 12 सितंबर को भारत के दौरे पर आने वाले हैं। आबे अपनी भारत यात्रा के दौरान 14 नवंबर को गुजरात के अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास करेंगे। एक रिपोर्ट के मुताबिक शिलान्यास कार्यक्रम के बाद अहमदाबाद में जापान के बुलट ट्रेन तकनीकि विशेषज्ञ भारतीय रेल के इंजीनियरों को बुलेट ट्रेन के निर्माण से संबन्धित तकनीकि प्रशिक्षण देने का काम शुरू करेंगे। जिसके बाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का निर्माण का कार्य 2018 में शुरू होगा, जिसे पांच वर्षों में पूरा किया जाएगा।

अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन के 509 किमी लंबे रूट पर 12 स्टेशन बनाए जाएंगे। जिनके बीच 350 किलोमीटर प्रति घंटा की अधिकतम स्पीड वाली ट्रेन दौड़ेगी। जिसकी औसत स्पीड 320 किमी प्रति घंटा होगी। यह स्पीड ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद की दूरी मात्र 2ण्58 घंटों में तय करेगी। भारत में चलने वाली पहली बुलेट ट्रेन जापान की शिन्कान्सेन बुलेट तकनीकि पर बनकर तैयार होगी। बुलेट ट्रेन के 10 कोच जापान की कावासाकी कंपनी से खरीदे जाएंगे। भविष्य में कोचों का निर्माण भारत में ही किया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- नोटबंदी पीएम मोदी का साहसिक कदम: जेमी दीमोन }

हाईस्पीड बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट को मेक इन ​इंडिया के तहत पूरा किया जाएगा। जिसके लिए जापान और भारत के ​बीच प्रौद्योगिकी हस्तांतरण का करार ​भी किया जाएगा। भारत में ही बुलेट ट्रेन कोच फैक्ट्री स्थापित की जाएगी। अहमदाबाद और मुंबई के बीच शुरू होने वाले बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की कुला लागत 97,6636 करोड़ रुपए बताई जा रही है। जिसके लिए जापान की जाइका कंपनी भारत को करीब 79,165 करोड़ का ऋण 0.1 प्रतिशत की दर पर प्रदान करेगी जिसे भारत सरकार बुलेट ट्रेन का संचालन शुरू होने के 15 साल बाद लौटाना शुरू करेगी।

बताया जा रहा है कि बुलेट ट्रेन को मुंबई के बांद्रा कुर्ला स्टेशन तक पहुंचाया जाएगा। मुंबई में भूमि अधिग्रहण की समस्या हो ध्यान में रखते हुए सरकार ने मुंबई में 21 किमी लंबी भूमिगत सुरंग बनाने की योजना बनाई है। जिसका 7 किमी हिस्सा समुद्र के अंर्तगत होगा। बुलेट ट्रेन ट्रैक जमीन से ऊपर पिलर पर बनाया जाएगा। जिसे अहमदाबाद में मैट्रो ट्रैक और फ्लाई ओवर ब्रिज के ऊपर से गुजारने के लिए करीब 20 मीटर ऊंचा उठाया जा सकता है। बुलेट ट्रेन में एकबार में 700 से ज्यादा यात्रियों के यात्रा करने की क्षमता होगी। जिसे भविष्य में बढ़ाया कर करीब दोगुना किया जा सकता है। शुरुआती दौर में बुलेट ट्रेन प्रीमियम किराए पर ही यात्रा करवाएगी, जिसके बाद कारोबा​री नजरिए को ध्यान में रखते हुए इकोनॉमी प्रीमियम श्रेणी को भी शामिल किए जाने पर विचार किया जा सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- जियो का धमाकेदार ऑफरः 100 एमबीपीएस की स्पीड से 100 जीबी डेटा मुफ्त दिए जाने का दावा }

Loading...