संसद सत्र से पहले बोले पीएम मोदी, विपक्ष नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनकी भावना मूल्यवान

pm modi parliament
संसद सत्र से पहले बोले पीएम मोदी, विपक्ष नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनकी भावना मूल्यवान

नई दिल्लीं। देश में दोबारा मोदी सरकार बनने के बाद आज संसद सत्र की शुरुआत हो रही है। ये सत्र आगामी 26 जुलाई तक चलेगा, जिसमें बजट भी पेश किया जाना है। संसद के कार्यवाही से पहले पीएम मोदी पत्रकारों से मिले। इस दौरान उन्होने अपने संबोधन में कहा कि प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनकी भावना मूल्यवान है। उन्होने कहा कि हमे पक्ष-विपक्ष को छोड़ निष्पक्ष की तरह काम करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होने उम्मीद जताई कि इस बार सदन में अधिक काम होगा।

Pm Modi Before The Parliament Session Leave The Worry Of The Opposition Number We Value His Feelings :

पीएम ने कहा कि जब सदन चला है, तो देशहित के निर्णय अच्छे हुए हैं. आशा करता हूं कि सभी दल साथ आएं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि लोकतंत्र के लिए ये जरूरी है कि विपक्ष भी सक्रिय रहे। उन्होने कहा कि लोकसभा गठन के बाद आज पहली बार संसद सत्र शुरु होने जा रहा है। अनेक नए साथियों के परिचय का अवसर है, नए साथियों के साथ नया उमंग, उत्साह और सपने भी जुड़ते हैं। उन्होने कहा कि विगत लोकसभा चुनाव में आजादी के बाद सबसे ज्यादा मतदान हुआ हैं। जिसमें महिलाओं ने बढ़—चढ़ कर हिस्सा लिया है।

प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि जब सरकार की आलोचना की जाती है तो लोकतंत्र को बल मिलता है। इससे सदन में सकारात्मक नतीजे देखने को मिलेंगे। बता दें कि इस बार भाजपा/एनडीए और भी अधिक संख्या के साथ निचले सदन में है। अब उनके पास कई अटके हुए विधेयकों को पास कराने की चुनौती भी है।

नई दिल्लीं। देश में दोबारा मोदी सरकार बनने के बाद आज संसद सत्र की शुरुआत हो रही है। ये सत्र आगामी 26 जुलाई तक चलेगा, जिसमें बजट भी पेश किया जाना है। संसद के कार्यवाही से पहले पीएम मोदी पत्रकारों से मिले। इस दौरान उन्होने अपने संबोधन में कहा कि प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें, हमारे लिए उनकी भावना मूल्यवान है। उन्होने कहा कि हमे पक्ष-विपक्ष को छोड़ निष्पक्ष की तरह काम करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होने उम्मीद जताई कि इस बार सदन में अधिक काम होगा। पीएम ने कहा कि जब सदन चला है, तो देशहित के निर्णय अच्छे हुए हैं. आशा करता हूं कि सभी दल साथ आएं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि लोकतंत्र के लिए ये जरूरी है कि विपक्ष भी सक्रिय रहे। उन्होने कहा कि लोकसभा गठन के बाद आज पहली बार संसद सत्र शुरु होने जा रहा है। अनेक नए साथियों के परिचय का अवसर है, नए साथियों के साथ नया उमंग, उत्साह और सपने भी जुड़ते हैं। उन्होने कहा कि विगत लोकसभा चुनाव में आजादी के बाद सबसे ज्यादा मतदान हुआ हैं। जिसमें महिलाओं ने बढ़—चढ़ कर हिस्सा लिया है। प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि जब सरकार की आलोचना की जाती है तो लोकतंत्र को बल मिलता है। इससे सदन में सकारात्मक नतीजे देखने को मिलेंगे। बता दें कि इस बार भाजपा/एनडीए और भी अधिक संख्या के साथ निचले सदन में है। अब उनके पास कई अटके हुए विधेयकों को पास कराने की चुनौती भी है।