1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. PM Modi in Varanasi:पीएम मोदी बोले-जैसे ही मुझे अवसर मिला, मैं रात 12 बजे फिर निकल पड़ा था अपनी काशी में

PM Modi in Varanasi:पीएम मोदी बोले-जैसे ही मुझे अवसर मिला, मैं रात 12 बजे फिर निकल पड़ा था अपनी काशी में

PM Modi in Varanasi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय दौरे पर काशी आए हैं। प्रधानमंत्री के दौरे का आज दूसरा दिन है। दूसरे दिन प्रधानमंत्री ने भाजपा (BJP) शासित 12 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक के दौरान आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीति, सरकार की नीतियों, योजनाओं के प्रचार प्रचार समेत कई मुद्दों पर चर्चा की गई। साथ ही तय कार्यक्रम के मुताबिक, पीएम मोदी स्वर्वेद महामंदिर धाम पहुंचे, जहां विहंगम योग के 98वें वार्षिकोत्सव मनाया जा रहा है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

PM Modi in Varanasi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय दौरे पर काशी आए हैं। प्रधानमंत्री के दौरे का आज दूसरा दिन है। दूसरे दिन प्रधानमंत्री ने भाजपा (BJP) शासित 12 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक के दौरान आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीति, सरकार की नीतियों, योजनाओं के प्रचार प्रचार समेत कई मुद्दों पर चर्चा की गई। साथ ही तय कार्यक्रम के मुताबिक, पीएम मोदी स्वर्वेद महामंदिर धाम पहुंचे, जहां विहंगम योग के 98वें वार्षिकोत्सव मनाया जा रहा है।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

इस दौरान पीएम मोदी (Pm Modi) ने कहा कि, काशी की ऊर्जा अक्षुण्ण तो है ही, ये नित नया विस्तार भी लेती रहती है। कल काशी ने भव्य ‘विश्वनाथ धाम’ को महादेव के चरणों में अर्पित किया। उन्होंने कहा कि, आज गीता जयंती का पुण्य अवसर है। आज के ही दिन कुरुक्षेत्र की युद्ध की भूमि में जब सेनाएं आमने सामने थीं, मानवता को योग, आध्यात्म और परमार्थ का परम ज्ञान मिला था।

पीएम ने कहा कि, मैं सद्गुरु सदाफल देव जी को नमन करता हूं, उनकी आध्यात्मिक उपस्थिति को प्रणाम करता हूं। मैं श्री स्वतंत्रदेव जी महाराज और श्री विज्ञानदेव जी महाराज का भी आभार व्यक्त करता हूं जो इस परंपरा को जीवंत बनाए हुए हैं, नया विस्तार दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि, हमारा देश इतना अद्भुत है कि, यहां जब भी समय विपरीत होता है, कोई न कोई संत-विभूति, समय की धारा को मोड़ने के लिए अवतरित हो जाती है। ये भारत ही है जिसकी आज़ादी के सबसे बड़े नायक को दुनिया महात्मा बुलाती है।

पीएम ने कहा कि, बनारस जैसे शहरों ने मुश्किल से मुश्किल समय में भी भारत की पहचान के, कला के, उद्यमिता के बीजों को सहेजकर रखा है। जहां बीज होता है, वृक्ष वहीं से विस्तार लेना शुरू करता है। इसीलिए, आज जब हम बनारस के विकास की बात करते हैं, तो इससे पूरे भारत के विकास का रोडमैप भी बनता है। उन्होंने कहा कि, मैं जब काशी आता हूं या दिल्ली में भी रहता हूं तो प्रयास रहता है कि बनारस में हो रहे विकास कार्यों को गति देता रहूं।

कल रात 12 बजे के बाद जैसे ही मुझे अवसर मिला, मैं फिर निकल पड़ा था अपनी काशी में जो काम चल रहे हैं, जो काम किया गया है, उनको देखने के लिए। पीएम ने कहा कि, गौदोलिया में जो सुंदरीकरण का काम हुआ है, देखने योग्य बना है। वहां कितने ही लोगों से मेरी बातचीत हुई। मैंने मडुवाडीह में बनारस रेलवे स्टेशन भी देखा। इस स्टेशन का भी अब कायाकल्प हो चुका है। पुरातन को समेटे हुए नवीनता को धारण करना, बनारस देश को नई दिशा दे रहा है।

पढ़ें :- Shanti Bhushan Passes Away: पूर्व कानून मंत्री शांति भूषण नहीं रहे, 97 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

पीएम ने कहा कि, स्वाधीनता संग्राम के समय सद्गुरु ने हमें मंत्र दिया था- स्वदेशी का। आज उसी भाव में देश ने अब ‘आत्मनिर्भर भारत मिशन’ शुरू किया है। आज देश के स्थानीय व्यापार-रोजगार को, उत्पादों को ताकत दी जा रही है, लोकल को ग्लोबल बनाया जा रहा है। मैं आज आप सभी से कुछ संकल्प लेने का आग्रह करना चाहता हूं। जैसे एक संकल्प हो सकता है-हमें बेटी को पढ़ाना है, उसका स्किल डवलपमेंट भी करना है। अपने परिवार के साथ साथ जो लोग समाज में ज़िम्मेदारी उठा सकते हैं, वो एक दो गरीब बेटियों के स्किल डवलपमेंट की भी ज़िम्मेदारी उठाएं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...