वाराणसी: पीएम मोदी ने किया 500 करोड़ से अधिक की परियोजनाओ का शिलान्यास

pm modi varanasi
वाराणसी: पीएम मोदी ने किया 500 करोड़ से अधिक की परियोजनाओ का शिलान्यास

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी दौरे का आज दूसरा दिन है। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को अपने संसदीय क्षेत्र काशी को अपने जन्मदिन का रिटर्न गिफ्ट दिया। पीएम ने यहां 500 करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं को शिलान्यास-लोकार्पण किया। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पीएम के साथ मौजूद रहे।

Pm Modi Inaugretes Sceme Of 500 Crore In Varanasi On His Birthday :

बता दें कि पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी भाषा में की। उन्होने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि अपने जीवन के एक और साल की शुरुआत में बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद के साथ कर रहा हूं। PM ने कहा कि विकास सिर्फ अब वाराणसी में ही नहीं बल्कि आस-पास के क्षेत्रों में भी हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पार्टी वाराणसी को उसकी पहचान के साथ आधुनिक विकास से जोड़ रहे हैं। उन्होने कहा कि बीते चार साल में यहां पर काफी काम हुआ है, वो अंतर आज दिख भी रहा है। पहले काशी को भोले के भरोसे छोड़ दिया गया था, लेकिन अब वाराणसी को विकास की नई दिशा दी जा रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के बाद मैने काशी का चौतरफा विकास करने का प्रण किया था। उन्होंने कहा कि आज काशी में लटके हुए तार नहीं दिखते हैं, हम वाराणसी को पूर्वी भारत काे गेटवे के तौर विकसित कर रहे है। आज LED बल्ब से काशी जगमगा रही है।

पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि हमने काशी में रिंग रोड के काम को शुरू किया, लेकिन पहले वाली सरकार ने इसे दबा कर रखा था. उन्हें चिंता थी कि अगर ये काम हुआ तो मोदी का जयकार होगा, लेकिन योगी जी की सरकार बनते ही ये काम तेज हो गया है।

उन्होंने कहा कि आज हवाई जहाज से वाराणसी आने वाले लोगों में बढ़ोतरी हो रही है। आंकड़ों की बात करते हुए उन्होने कहा कि चार साल पहले यहां पर 8 लाख लोग आते थे और लेकिन अब 21 लाख लोग हवाई जहाज से काशी में आते हैं। काशी को इलाहाबाद और छपरा से जोड़ने वाले ट्रैक को डबल किया जा रहा है।

बता दें कि प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम में किसी को भी काला रंग का कपड़ा पहनकर आने की इजाजत नहीं मिली है। इसके अलावा सभी लोगों को किसी भी प्रकार की काले रंग की वस्तु लाने की भी मनाही है। गौरतलब है कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री के उत्तर प्रदेश में दौरों में बढ़ोतरी हुई है। इनमें पुरानी काशी के लिये एकीकृत ऊर्जा विकास योजना तथा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में अटल इन्क्यूबेशन सेंटर की परियोजना प्रमुख हैं।

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी दौरे का आज दूसरा दिन है। प्रधानमंत्री ने मंगलवार को अपने संसदीय क्षेत्र काशी को अपने जन्मदिन का रिटर्न गिफ्ट दिया। पीएम ने यहां 500 करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं को शिलान्यास-लोकार्पण किया। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पीएम के साथ मौजूद रहे। बता दें कि पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी भाषा में की। उन्होने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि अपने जीवन के एक और साल की शुरुआत में बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद के साथ कर रहा हूं। PM ने कहा कि विकास सिर्फ अब वाराणसी में ही नहीं बल्कि आस-पास के क्षेत्रों में भी हो रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पार्टी वाराणसी को उसकी पहचान के साथ आधुनिक विकास से जोड़ रहे हैं। उन्होने कहा कि बीते चार साल में यहां पर काफी काम हुआ है, वो अंतर आज दिख भी रहा है। पहले काशी को भोले के भरोसे छोड़ दिया गया था, लेकिन अब वाराणसी को विकास की नई दिशा दी जा रही है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के बाद मैने काशी का चौतरफा विकास करने का प्रण किया था। उन्होंने कहा कि आज काशी में लटके हुए तार नहीं दिखते हैं, हम वाराणसी को पूर्वी भारत काे गेटवे के तौर विकसित कर रहे है। आज LED बल्ब से काशी जगमगा रही है। पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि हमने काशी में रिंग रोड के काम को शुरू किया, लेकिन पहले वाली सरकार ने इसे दबा कर रखा था. उन्हें चिंता थी कि अगर ये काम हुआ तो मोदी का जयकार होगा, लेकिन योगी जी की सरकार बनते ही ये काम तेज हो गया है। उन्होंने कहा कि आज हवाई जहाज से वाराणसी आने वाले लोगों में बढ़ोतरी हो रही है। आंकड़ों की बात करते हुए उन्होने कहा कि चार साल पहले यहां पर 8 लाख लोग आते थे और लेकिन अब 21 लाख लोग हवाई जहाज से काशी में आते हैं। काशी को इलाहाबाद और छपरा से जोड़ने वाले ट्रैक को डबल किया जा रहा है। बता दें कि प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम में किसी को भी काला रंग का कपड़ा पहनकर आने की इजाजत नहीं मिली है। इसके अलावा सभी लोगों को किसी भी प्रकार की काले रंग की वस्तु लाने की भी मनाही है। गौरतलब है कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री के उत्तर प्रदेश में दौरों में बढ़ोतरी हुई है। इनमें पुरानी काशी के लिये एकीकृत ऊर्जा विकास योजना तथा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में अटल इन्क्यूबेशन सेंटर की परियोजना प्रमुख हैं।