‘मन की बात’ में पीएम मोदी ने महिलाओं को सराहा कहा- ला रहीं है बदलाव

'मन की बात' में पीएम मोदी ने महिलाओं को सराहा कहा- ला रहीं है बदलाव
'मन की बात' में पीएम मोदी ने महिलाओं को सराहा कहा- ला रहीं है बदलाव

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में रविवार को कहा कि देश में सकारात्मक बदलाव लाने में महिलाओं का बड़ा योगदान है। तभी कहा जाता है कि नारी शक्ति की कोई सीमा नहीं है। मोदी ने कहा कि आत्मिक सुधार के लिए अनवरत प्रयासरत रहना भारतीय समाज की विशेषता है और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लगातार कोशिशें जारी रहती हैं।

मोदी ने अपने कार्यक्रम में काफी देर तक विभिन्न क्षेत्रों में अतीत और वर्तमान में महिलाओं उपलब्धियों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अगर किसी के पास इच्छाशक्ति, मजबूत इरादा और दृढ़संकल्प है तो उसके लिए ‘कुछ भी असंभव नहीं है’। वहीं स्कंद पुराण से एक श्लोक का उद्धरण दिया, जिसमें कहा गया है कि एक बेटी 10 बेटों के बराबर होती है। उन्होंने कहा, जो पुण्य आप 10 बेटों से प्राप्त करते हैं, वह हमें केवल एक बेटी से प्राप्त होता है। यह हमारे समाज में महिलाओं को दिए गए महत्व को रेखांकित करता है। यही कारण है कि हमारे समाज में महिलाओं को शक्ति का दर्जा दिया जाता है।

{ यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी को ट्विटर पर मिली ऐसी सलाह, जवाब मिला- 'प्वाइंट टेकन' }

मोदी ने इस मौके पर अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला को भी याद किया। उन्होंने कहा, उनका जीवन, उनका काम युवा महिलाओं, खासकर भारत की महिलाओं के लिए एक संदेश है कि ‘नारी शक्ति की बुलंदियों की कोई सीमा नहीं है। इस नारी शक्ति ने एकता के सूत्र में समाज और परिवार को एक साथ बांधा है। फिर चाहे वे वैदिक काल की विदुषियों का ज्ञान हो, नारी शक्ति ने हमेशा हमें प्रेरित किया है।

गार्गी, मैत्रेयी, मीराबाई, अहिल्याबाई होलकर और रानी लक्ष्मीबाई का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने ( महिलाओं) हमेशा देश को गौरवान्वित किया है। मोदी ने कहा कि देश में नारियों के प्रति सम्मान, समाज में उनका दर्जा और उनका योगदान प्राचीन काल से ही दुनिया के लिए प्रेरणादायी हैं।

{ यह भी पढ़ें:- सरकार पर गंभीर आरोप लगाने के बाद पीएम मोदी के गले लग गए राहुल गांधी }

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में रविवार को कहा कि देश में सकारात्मक बदलाव लाने में महिलाओं का बड़ा योगदान है। तभी कहा जाता है कि नारी शक्ति की कोई सीमा नहीं है। मोदी ने कहा कि आत्मिक सुधार के लिए अनवरत प्रयासरत रहना भारतीय समाज की विशेषता है और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लगातार कोशिशें जारी रहती हैं। मोदी ने अपने कार्यक्रम में काफी देर तक विभिन्न क्षेत्रों में अतीत और…
Loading...