1. हिन्दी समाचार
  2. पीएम मोदी बोले-बंदिशों को तोड़ ऊचाइयां छू रही हैं बेटियां, हुनर हाट शिल्पकारों के सपनों को लगा रहा पंख

पीएम मोदी बोले-बंदिशों को तोड़ ऊचाइयां छू रही हैं बेटियां, हुनर हाट शिल्पकारों के सपनों को लगा रहा पंख

By शिव मौर्या 
Updated Date

Pm Modi Said Daughters Are Touching The Heights Breaking The Restrictions Feathers On The Dreams Of Artisans

नई दिल्ली। मन की बात को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज देश की बेटियां बंदिशों को तोड़कर नई ऊचाइयों को छू रहीं हैंं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हुनर हाटा शिल्पकारों के सपनों को पंख लगा रहा है। पीएम ने कहा कि दिल्ली के हुनर हाट में एक छोटी सी जगह में देश की विशालता, संस्कृति, परम्पराओं, खानपान और जज्बातों की विविधताओं का दर्शन होता है।

पढ़ें :- पंचायत चुनाव: अपने तय समय पर होगा पहला चरण, 18 जिलों में कल होगी वोटिंग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात कार्यक्रम’ में भी बिहारी भोजन लिट्टी-चोखा का जिक्र किया। उन्होंने दिल्ली में आयोजित हुनर हाट के अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि उन्हें बिहार लिट्ठी-चोखा बहुत स्वादिष्ट लगा। उन्होंने कहा, ‘बिहार के स्वादिष्ट लिट्ठी-चोखे का आनंद लिया। भरपूर आनंद लिया।’ उन्होंने हुनर हाट को भारतीय संस्कृति का समागम स्थल बताते हुए लोगों से वहां जाने की अपील की। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक छोटी सी जगह पर पूरा भारत समा गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लोग हुनर हाट में जाएं और वहां कलाकारों का हौसला बढ़ाएं। वहीं, मन की बात में पीएम ने भारत की जैविक विविधता और सर्दियों में हिन्दुस्तान आने वाले प्रवासी पक्षियों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि भारत के वातावरण का आतिथ्य लेने के लिए दुनिया भर से अलग-अलग प्रजातियों के पक्षी भी हर साल यहां आते हैं, गर्व की बात है कि 3 सालों तक भारत COP convention की अध्यक्षता करेगा, इस अवसर को कैसे उपयोगी बनायें, इसके लिये आप अपने सुझाव जरुर भेजें।

इसके साथ ही पीएम ने कहा कि कुछ दिनों पूर्व जीवविज्ञानियों ने मछली की एक ऐसी नई प्रजाति की खोज की है जो केवल मेघालय में गुफाओं कें अदंर पाई जाती है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि इन दिनों हमारे देश के बच्चों में, युवाओं में साइंस और तकनीक के प्रति रूचि लगाचार बढ़ रही है। युवाओं को साइंस से जोड़ने के लिए इसरो ने युविका कार्यक्रम शुरू किया है। युविका का मतलब है युवा विज्ञानी कार्यक्रम। इस कार्यक्रम के तहत परीक्षा के बाद बच्चे छुट्टियों में इसरो के अलग अलग सेंटर जाकर स्पेस तकनीके के बारे में सीखते हैं।

पढ़ें :- कोरोना की दूसरी लहर से बचने के लिए ऐसे तैयार करें 'इम्‍युनिटी बूस्‍टर'

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...