इस बुजुर्ग का रुतबा जान हो जाएंगे हैरान, मोदी भी मानते हैं Order

guruji-bhide_555_111517124949

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ा ये दुबला-पतला बुजुर्ग दिखने में तो आम आदमी है, लेकिन इन्हें कम मत समझिए. इनका रुतबा ऐसा है कि प्रधानमंत्री से लेकर महाराष्ट्र के सीएम तक इनका ऑर्डर मानते हैं.

Pm Modi To Cm Fadnavis Obeys Order Of Sambhaji Bhide Guruji :

इस बुजुर्ग का नाम है संभाजी भिडे गुरुजी, जो महाराष्ट्र के सांगली जिले से आते हैं. पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा आरोपी की हत्या कर शव जलाने के मामले में उग्र प्रदर्शन करने के बाद वे हाल ही में सुर्खियों में छाए हुए हैं.

बता दें कि गुरूजी के नाम से मशहूर संभाजी पुणे यूनिवर्सिटी से एमएससी (एटॉमिक साइंस) में गोल्ड मेडलिस्ट हैं. इसके अलावा वे मशहूर फर्ग्युसन कॉलेज में फिजिक्स के प्रोफेसर रह चुके हैं.

शिवाजी महाराज को अपना आदर्श मानने वाले गुरुजी को महाराष्ट्र में लोगों का जबरदस्त समर्थन है. लोकसभा चुनाव के दौरान जब मोदी सांगली आए थे तो सुरक्षा घेरा तोड़कर भिडे गुरुजी से मिले थे. यही नहीं, रैली में मोदी ने तो यह तक कहा था कि, “मैं भिडे गुरुजी के बुलावे पर नहीं आया हूं. बल्कि उनका ऑर्डर मानकर सांगली आया हूं.”

शिव प्रतिष्ठान संस्था चलाने वाले भिडे गुरूजी का रुतबा मोदी तक ही सीमित नहीं है. एक बार तो महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने उनसे मिलने के लिए अपना प्लेन तक रुकवा दिया था.

साइकिल पर चलने वाले भिडे गुरुजी की उम्र 85 के पार है इसके बावजूद वो आज भी तंदरूस्त हैं. उनके बारे में कहा जाता है कि वो पैरों में चप्पल तक नहीं पहनते हैं.

कहा जाता है कि गुरुजी ने आजतक जिस भी नेता का चुनाव में समर्थन किया उसकी जीत हुई है. हालांकि, गुरुजी कभी किसी राजनीतिक दल से नहीं जुड़े. सबसे बड़ी बात तो यह कि नेताओं के बीच दबदबा होने के बावजूद उनका ना तो खुद का घर है और ना ही किसी तरह की संपत्ति.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ा ये दुबला-पतला बुजुर्ग दिखने में तो आम आदमी है, लेकिन इन्हें कम मत समझिए. इनका रुतबा ऐसा है कि प्रधानमंत्री से लेकर महाराष्ट्र के सीएम तक इनका ऑर्डर मानते हैं.इस बुजुर्ग का नाम है संभाजी भिडे गुरुजी, जो महाराष्ट्र के सांगली जिले से आते हैं. पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा आरोपी की हत्या कर शव जलाने के मामले में उग्र प्रदर्शन करने के बाद वे हाल ही में सुर्खियों में छाए हुए हैं.बता दें कि गुरूजी के नाम से मशहूर संभाजी पुणे यूनिवर्सिटी से एमएससी (एटॉमिक साइंस) में गोल्ड मेडलिस्ट हैं. इसके अलावा वे मशहूर फर्ग्युसन कॉलेज में फिजिक्स के प्रोफेसर रह चुके हैं.शिवाजी महाराज को अपना आदर्श मानने वाले गुरुजी को महाराष्ट्र में लोगों का जबरदस्त समर्थन है. लोकसभा चुनाव के दौरान जब मोदी सांगली आए थे तो सुरक्षा घेरा तोड़कर भिडे गुरुजी से मिले थे. यही नहीं, रैली में मोदी ने तो यह तक कहा था कि, "मैं भिडे गुरुजी के बुलावे पर नहीं आया हूं. बल्कि उनका ऑर्डर मानकर सांगली आया हूं."शिव प्रतिष्ठान संस्था चलाने वाले भिडे गुरूजी का रुतबा मोदी तक ही सीमित नहीं है. एक बार तो महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने उनसे मिलने के लिए अपना प्लेन तक रुकवा दिया था.साइकिल पर चलने वाले भिडे गुरुजी की उम्र 85 के पार है इसके बावजूद वो आज भी तंदरूस्त हैं. उनके बारे में कहा जाता है कि वो पैरों में चप्पल तक नहीं पहनते हैं.कहा जाता है कि गुरुजी ने आजतक जिस भी नेता का चुनाव में समर्थन किया उसकी जीत हुई है. हालांकि, गुरुजी कभी किसी राजनीतिक दल से नहीं जुड़े. सबसे बड़ी बात तो यह कि नेताओं के बीच दबदबा होने के बावजूद उनका ना तो खुद का घर है और ना ही किसी तरह की संपत्ति.