अमेरिकी ‘एयरफोर्स वन’ जैसे विमान में यात्रा करेंगे PM मोदी, 2020 में आएगा भारत

pm modi
अमेरिकी 'एयरफोर्स वन' जैसे विमान में यात्रा करेंगे PM मोदी, 2020 में आएगा भारत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयोग के लिए लंबी दूरी के दो बोइंग 777 विमान का बेड़ा जून 2020 में भारत में होगा। यह विमान किसी भी तरह के मिसाइल को चकमा देने में माहिर होगा। जो आधुनिक तकनीकी के साथ सुरक्षात्मक रूप से भी उन्नत होंगे। ये विमानों का पहला सेट होगा जो केवल पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू द्वारा उपयोग किया जाएगा।

Pm Modi To Travel In Aircraft Like American Airforce One India Will Come In 2020 :

सूत्रों के अनुसार इन विमानों को केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप-राष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू द्वारा प्रयोग किया जाएगा। देश के तीनों सर्वोच्च व्यक्ति फिलहाल एयर इंडिया के बोइंग बी 747 विमानों से उड़ान भरते हैं।

उड़ान के बाद में इन विमानों को वाणिज्यिक विमानों में तब्दील कर दिया जाता है। जब देश के सर्वोच्च लोगों को यात्रा करने की आवश्यकता होती है तो इसे ‘एयर इंडिया वन’ में बदल दिया जाता है और ये लोग इससे यात्रा करते हैं।  

19 करोड़ डॉलर में समझौता

इस साल फरवरी में अमेरिका इस विमान के लिए दो मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेचने पर सहमत हो गया था। एंटी मिसाइल तकनीक को एयर इंडिया वन में लगाने के लिए करीब 19 करोड़ डॉलर का समझौता हुआ था।

क्या है एयर इंडिया वन

केंद्र सरकार ने वीवीआइपी सुरक्षा के लिए ‘एयर इंडिया वन’ को मंजूरी दी थी। दो दशकों से अति विशिष्ट लोगों की सेवा कर रही एयर इंडिया की बोइंग 747 जंबो जेट की जगह अब ‘एयर इंडिया वन’ ने लिया। विशेष प्रकार के मेटल से बने विमान में तमाम अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं।

ऐसे करेगा बचाव

एंटी मिसाइल तकनीक बड़े विमानों को सुरक्षा कवच प्रदान करेगा। यह सिस्टम स्थापित होने के बाद क्रू वॉर्निंग की अवधि को बढ़ाता है। चालक दल के एक्शन में आए बगैर यह अपना काम करेगा। पायलट को बस सूचित किया जाएगा कि एक मिसाइल का पता लगा है और सिस्टम उसे वहीं जाम कर देगा।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयोग के लिए लंबी दूरी के दो बोइंग 777 विमान का बेड़ा जून 2020 में भारत में होगा। यह विमान किसी भी तरह के मिसाइल को चकमा देने में माहिर होगा। जो आधुनिक तकनीकी के साथ सुरक्षात्मक रूप से भी उन्नत होंगे। ये विमानों का पहला सेट होगा जो केवल पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू द्वारा उपयोग किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इन विमानों को केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप-राष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू द्वारा प्रयोग किया जाएगा। देश के तीनों सर्वोच्च व्यक्ति फिलहाल एयर इंडिया के बोइंग बी 747 विमानों से उड़ान भरते हैं। उड़ान के बाद में इन विमानों को वाणिज्यिक विमानों में तब्दील कर दिया जाता है। जब देश के सर्वोच्च लोगों को यात्रा करने की आवश्यकता होती है तो इसे 'एयर इंडिया वन' में बदल दिया जाता है और ये लोग इससे यात्रा करते हैं।   19 करोड़ डॉलर में समझौता इस साल फरवरी में अमेरिका इस विमान के लिए दो मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेचने पर सहमत हो गया था। एंटी मिसाइल तकनीक को एयर इंडिया वन में लगाने के लिए करीब 19 करोड़ डॉलर का समझौता हुआ था। क्या है एयर इंडिया वन केंद्र सरकार ने वीवीआइपी सुरक्षा के लिए ‘एयर इंडिया वन’ को मंजूरी दी थी। दो दशकों से अति विशिष्ट लोगों की सेवा कर रही एयर इंडिया की बोइंग 747 जंबो जेट की जगह अब ‘एयर इंडिया वन’ ने लिया। विशेष प्रकार के मेटल से बने विमान में तमाम अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं। ऐसे करेगा बचाव एंटी मिसाइल तकनीक बड़े विमानों को सुरक्षा कवच प्रदान करेगा। यह सिस्टम स्थापित होने के बाद क्रू वॉर्निंग की अवधि को बढ़ाता है। चालक दल के एक्शन में आए बगैर यह अपना काम करेगा। पायलट को बस सूचित किया जाएगा कि एक मिसाइल का पता लगा है और सिस्टम उसे वहीं जाम कर देगा।