PM मोदी 31 को कर सकते हैं देश को संबोधित, ये हो सकते हैं मुद्दे

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देशवाशियों को नए साल से पहले संबोधित कर सकते है। नोटबंदी के 50 दिन पूरे होने के बाद 31 दिसम्बर को शाम 7:30 बजे मोदी राष्ट्र को कालाधन, भ्रस्टाचार के मुद्दों के अलावा और कई नई घोषणाएं कर सकते हैं। हालाकि प्रधानमंत्री कार्यालय से अभी तक इसकी अधिकारिक पुष्टि नही की गई है।




माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री अपने संबोधन में नोटबंदी के बाद से बैंको में 500 और 1000 रुपये के कितने पुराने नोट जमा हुए। इसके अलावा 8 नवंबर के बाद पूरे देश में कितना कालाधन पकड़ा गया और कितने काला कुबेरों के खिलाफ कार्रवाई की गई इसकी भी जानकारी दे सकते है। प्रधानमंत्री नोटबंदी के बाद पकड़े गए कालेधन को लेकर अपने ऐक्शन प्लान भी बताएँगे।

पीएम मोदी किसानों, बेरोजगार युवाओं के अलावा और भी कई बड़ी समस्याओं को लेकर राष्ट्र को संबोधित कर सकते है। साथ ही कैशलेश योजना और डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देने पर भी विचार कर सकते है।




बेनामी संपत्ति पर हो सकता प्रहार

नोटबंदी के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री अपने संबोधन में कई बार इस बात का जिक्र कर चुके है कि कालेधन के बाद अब बेनामी संपत्ति पर प्रहार किया जाएगा। रेडियो पर प्रसारित अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में भी प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि देश में बेनाम संपत्ति के लिए भी कानून बना है, जो कि पिछली सरकार में कभी लागू ही नही हुआ। ऐसे में यह भी माना जा रहा है की संबोधन में बेनामी संपत्ति वालो पर भी मोदी पेंच कस सकते है।