सरदार सरोवर बांध उद्घाटन: PM मोदी की राष्ट्र को सौगात, 10 लाख किसान होंगे लाभान्वित

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 67वें जन्मदिन के मौके पर अपने गृह राज्य गुजरात में देशवासियों को एक बड़ी सौगात दी। पीएम मोदी शनिवार की रात गुजरात पहुंचे थे। उन्होंने राज्य की राजधानी गांधीनगर के पास अपनी मां हीराबा मोदी से आशीर्वाद लिया और फिर सीधे केवडिया में नर्मदा बांध स्थल पर पहुंचे।
उद्घाटन के दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और राज्य के कई धार्मिक व आध्यात्मिक प्रमुख मौजूद रहे। मोदी ने इससे पहले सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में बनाए जा रहे 182 मीटर के ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ पर हो रहे कार्य की प्रगति का निरीक्षण किया, जो बांध स्थल के निकट साधु बेट पर बनाया जा रहा है।

रविवार तड़के खराब मौसम के चलते पीएम मोदी के हेलीकाप्टर को दभोई में लैंड करना पड़ा। जिसके बाद प्रधानमंत्री सड़क मार्ग से केवड़िया रवाना हुआ। इसी के चलते उदघाटन समारोह एक घंटा देरी से शुरू हुआ।

सम्बोधन में क्या बोले PM मोदी-

{ यह भी पढ़ें:- 400 साल पहले इस गांव में आया था हुमायूं, आज PM मोदी ने रखी शौचालय की नींव }

  • पीएम मोदी ने कार्यक्रम के दौरान कहा, विश्वकर्मा जयंती पर जिन जिन लोगों ने इस सरदार सरोवर बांध का निर्माण किया है उनको देश को सरदार सरोवर बांध के रूप में एक सौगात देने का सौभाग्य मिला।
  • मोदी ने कहा, आज मेरा जन्मदिन है और जन्मदिन की शुभकामनाओं के लिए मैं आभार प्रकट करता हूं। मैं जिउंगा आपके सपने के लिए।
  • प्रधानमंत्री ने कहा, देश के महापुरुषों में सरदार पटेल और बाबा साहब अंबेडकर कुछ समय और जिंदा रहते तो सरदार सरोवर डैम बहुत पहले बन गया होता। लेकिन दुर्भाग्य से हमने उन्हें बहुत पहले खो दिया।
  • उन्होंने कहा, सरदार सरोवर बांध देश की ताकत का प्रतीक बनेगा। भारत में जलक्रांति का श्रेय अंबेडकर को जाता है और सरदार पटेल जीवित होते, ये बांध 60 के दशक में ही बन जाता।
  • प्रधानमंत्री ने जन्मदिन की शुभकामना देने वाले सभी लोगों को शुक्रिया कहा और देशवासियों के सपने को सच करने के लिए कठिन परिश्रम करने से पीछे नहीं हटेंगे।

ये है सरदार सरोवर बांध की खूबियां-

  • साल 1961 में भारत के पहले प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू ने बांध की नींव रखी थी।
  • पूरे 56 साल बाद तैयार हुआ सरदार सरोवर बांध।
  • भारत का सबसे बड़ा और दूुनिया का दूसरा सबसे बड़ा बांध है।
  • इस बांध से चार राज्यों गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान के लोगों को मिलेगा लाभ।
  • सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई 138.68 मीटर और लंबाई 1210 मीटर है।
  • इस बांध की क्षमता 4.73 मिलियन क्यूसेक पानी की है।
  • बांध से 6 हजार मेगावाट बिजली पैदा होगी, जिसका 57 फीसदी हिस्सा मध्यप्रदेश को, 27 फीसदी हिस्सा महाराष्ट्र को और 16 फीसदी हिस्सा गुजरात को मिलेगा।

ये होंगे फायदे-

{ यह भी पढ़ें:- अमेरि​की एनआरआई समुदाय से राहुल गांधी की अपील भारत लौटकर बदलें देश की तस्वीर }

  • इस परियोजना से गुजरात के जल रहित क्षेत्रों में नर्मदा के पानी को नहर और पाइपलाइन नेटवर्क के जरिये पहुंचाने में मदद मिलेगी।
  • सिंचाई सुविधा में विस्तार होगा, जिससे 10 लाख किसान लाभान्वित होंगे।
  • कई गावों में पीने का पानी पहुंचेगा और यह चार करोड़ लोगों को फायदा पहुंचाएगा।
  • इससे प्रतिवर्ष 100 करोड़ यूनिट जलबिजली पैदा होने की संभावना है।