गाजीपुर में बोले पीएम, गरीब चैन की नींद सो रहा, कालेधन वाले नींद की गोलियां ढूंढ रहा है

गाजीपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गाजीपुर को महर्षि विश्वामित्र की धरती बताया और कहा कि जनता के वोटों की ताकत से ही उन्हें भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कदम उठाने का साहस मिला। उन्होंने कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि उन्हें दूसरी बार गाजीपुर आने का मौका मिला। उन्होंने कहा, “लोकसभा चुनाव में प्रचार अपने चरम पर था, तब मैं नौ मई को गाजीपुर आया था। तब मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए।” पीएम ने कालेधन के मुद्दे पर कहा कि आज गरीब चैन की नींद सो रहे हैं, वहीं कालेधन वाले बेचैन हैं और नींद के लिए दवाईयां ढूंढ़ रहे हैं। रैली में पीएम को सुनने लाखों की भीड़ उमड़ी।




प्रधानमंत्री ने कहा, “मैंने कहा था कि मेरा छोटा भाई यहां से चुनाव लड़ रहा है। आपने मुझ पर भरोसा किया और न सिर्फ गाजीपुर से मनोज सिन्हा को जिताया, बल्कि भारत के नव निर्माण की नींव रखने का काम किया।” प्रधानमंत्री ने इस मौके पर भोजपुरी में यहां के लोगों का अभिवादन किया। उन्होंने गाजीपुर के वीर शहीद अब्दुल हमीद का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सबसे अधिक गाजीपुर से ही लोग सेना में हैं।

मोदी ने कहा, “यदि लोकसभा चुनाव में उप्र केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने में मदद नहीं करता तो भ्रष्टाचारियों के खिलाफ इतना बड़ा कदम नहीं उठा पाता। वोट की ताकत से ही यह सब हो रहा है।” उन्होंने कहा कि गाजीपुर का प्यार वह सूद समेत लौटाएंगे। गोरखपुर में खाद कारखाना के कायाकल्प के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता था। लेकिन उन्होंने इसे जिंदा करने का काम किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वाचल के लोग बीमार होते थे तो इलाज के लिए भटकते थे। इस परेशानी को भी दूर करने का काम किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने सोमवार को उप्र के गाजीपुर में शब्दभेदी एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह ट्रेन गाजीपुर से कोलकाता के बीच चलेगी। इस मौके पर उन्होंने गाजीपुर-बलिया के बीच रेलमार्ग के दोहरीकरण का भी शिलान्यास किया। राज्यपाल राम नाईक, केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु, रेल राज्य एवं संचार मंत्री मनोज सिन्हा, केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल सहित कई नेता भी इस अवसर पर मौजूद रहे। प्रधानमंत्री ने गाजीपुर और मऊ को जोड़ने वाले ताड़ी घाट रेलवे पुल का शिलान्यास किया। इस पुल के निर्माण पर कुल 1,766 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस पुल की मांग कई दशकों से की जा रही थी।




इस दौरान प्रधानमंत्री ने 5.17 करोड़ से नवनिर्मित कार्गो केंद्र का भी लोकार्पण किया। साथ ही बचत बीमा योजना के तहत दो ग्राम प्रधानों को सम्मानित किया। सुकन्या समृद्घि योजना के तहत पांच लाभार्थियों को भी पासबुक वितरित किए। इस अवसर पर रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि इस देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था। लेकिन देश में ऐसी सरकारें बनती रहीं, जिसकी वजह से देश की हालत काफी खराब हो गई। इसका एक अहम कारण काला धन भी था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने काले धन के खात्मे के लिए कदम उठाए हैं, जो एक ऐतिहासिक हैं। पिछले ढाई वर्षो के भीतर सिन्हा ने जितनी तेजी से काम किया है, उसके लिए वह बधाई के पात्र हैं।

केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि 55 वर्षो से ताड़ीघाट-गाजीपुर-मउ रेलपुल का निर्माण लोगों का सपना था। मोदी सरकार में यह सपना पूरा होने जा रहा है। भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने का उन्होंने जो संकल्प लिया था, वह सच होने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दिशा में कदम बढ़ा दिया है। सिन्हा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उन्हें कुछ जिम्मेदारियां दी हैं और उनकी उम्मीदों पर वह खरा उतरने की कोशिश कर रहे हैं। आज जिन योजनाओं का शिलान्यास किया गया है उसे अगले तीन वर्ष के भीतर पूरा किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गाजीपुर की जनता गरीब जरूर है, लेकिन जो कोई यहां के लिए कुछ करता है उसके लिए वह खून बहाने के लिए भी तैयार रहती है।

Loading...