कश्मीर पर पाकिस्तान का साथ देना तुर्की को पड़ा भारी, PM नरेंद्र मोदी ने रद्द की यात्रा

अयोध्या मामले पर विवाद: फैसले से पहले PM मोदी की जनता से अपील, बनाए रखें शांति और सौहार्द
अयोध्या मामले पर विवाद: फैसले से पहले PM मोदी की जनता से अपील, बनाए रखें शांति और सौहार्द

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे को उठाने और फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) में पाकिस्तान का समर्थन करने पर भारत ने तुर्की (Turkey) को कड़ा संदेश दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की के दो दिन के दौरे को रद्द कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की का दौरा रद्द कर वहां के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगान (Recep Tayyip Erdoğan) को यही संदेश दिया है।

Pm Narendra Modi Turkey Visit Cancel Kashmir Article 370 :

दरअसल, तुर्की के राष्ट्रपति ने सितंबर में हुई संयुक्त राष्ट्र सभा में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करते हुए भारत का विरोध किया था।  यही नहीं फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की पैरिस में हुई बैठक के दौरान भी तुर्की ने पाकिस्तान का ही साथ दिया था। सूत्रों के मुताबिक तुर्की द्वारा पाकिस्तान को बार-बार समर्थन करने के चलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह कदम उठाया है और उन्होंने अपनी दो दिवसीय दौरा को रद्द कर दिया है।

बता दें कि, 27-28 अक्टूबर को सऊदी अरब में मेगा इन्वेस्टमेंट समिट के बाद पीएम मोदी की तुर्की यात्रा प्रस्तावित थी। तुर्की के इस कदम से दोनो देशों के संबंधों में खटास आ गई है। हलांकि दोनों देशों के बीच कभी भी बेहतर संबंध नहीं रहे हैं। पीएम मोदी के इस दौरे से दोनों देशों के बीच व्यापार और सुरक्षा संबंध सुधरने की उम्मीद थी लेकिन अब यह मुश्किल लग रहा है।

हालांकि विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि दौरा फाइनल नहीं हुआ था, इसलिए रद्द होने का सवाल नहीं। गौरतलब है कि इसी साल ओसाका में जी-20 से इतर पीएम मोदी और अर्दोआन की मुलाकात हुई थी। जुलाई, 2018 में अर्दोआन भी दो दिन के दौरे पर भारत आए थे।  

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे को उठाने और फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) में पाकिस्तान का समर्थन करने पर भारत ने तुर्की (Turkey) को कड़ा संदेश दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की के दो दिन के दौरे को रद्द कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की का दौरा रद्द कर वहां के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगान (Recep Tayyip Erdoğan) को यही संदेश दिया है। दरअसल, तुर्की के राष्ट्रपति ने सितंबर में हुई संयुक्त राष्ट्र सभा में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन करते हुए भारत का विरोध किया था।  यही नहीं फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की पैरिस में हुई बैठक के दौरान भी तुर्की ने पाकिस्तान का ही साथ दिया था। सूत्रों के मुताबिक तुर्की द्वारा पाकिस्तान को बार-बार समर्थन करने के चलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह कदम उठाया है और उन्होंने अपनी दो दिवसीय दौरा को रद्द कर दिया है। बता दें कि, 27-28 अक्टूबर को सऊदी अरब में मेगा इन्वेस्टमेंट समिट के बाद पीएम मोदी की तुर्की यात्रा प्रस्तावित थी। तुर्की के इस कदम से दोनो देशों के संबंधों में खटास आ गई है। हलांकि दोनों देशों के बीच कभी भी बेहतर संबंध नहीं रहे हैं। पीएम मोदी के इस दौरे से दोनों देशों के बीच व्यापार और सुरक्षा संबंध सुधरने की उम्मीद थी लेकिन अब यह मुश्किल लग रहा है। हालांकि विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि दौरा फाइनल नहीं हुआ था, इसलिए रद्द होने का सवाल नहीं। गौरतलब है कि इसी साल ओसाका में जी-20 से इतर पीएम मोदी और अर्दोआन की मुलाकात हुई थी। जुलाई, 2018 में अर्दोआन भी दो दिन के दौरे पर भारत आए थे।