1. हिन्दी समाचार
  2. ऑटो
  3. New scrapping policy launched : पीएम मोदी बोले- नई स्क्रैप पॉलिसी से ऑटो-मेटल इंडस्ट्री को मिलेगा बूस्ट

New scrapping policy launched : पीएम मोदी बोले- नई स्क्रैप पॉलिसी से ऑटो-मेटल इंडस्ट्री को मिलेगा बूस्ट

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को गुजरात इन्वेस्टर समिट (Gujarat Investor Summit)  को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए संबोधित किया। अहमदाबाद (Ahmedabad) में आयोजित कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) मौजूद थे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को गुजरात इन्वेस्टर समिट (Gujarat Investor Summit)  को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए संबोधित किया। अहमदाबाद (Ahmedabad) में आयोजित कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) मौजूद थे।

पढ़ें :- जितना काम वाराणसी में पिछले 7 साल में हुआ है, उतना पिछले कई दशकों में नहीं हुआ : पीएम मोदी

पीएम मोदी ने शुक्रवार को देश में ऑटोमॉबिल स्क्रैपिंग पॉलिसी (National Automobile Scrappage Policy )किया है। मोदी ने कहा कि ये पॉलिसी नए भारत की मोबिलिटी को,ऑटो सेक्टर को नई पहचान देने वाली है।

पढ़ें :- PM Modi UP Visit : पीएम मोदी ने कसा तंज, कहा- पहले यूपी में चलती थी 'भ्रष्टाचार की साइकिल'

उन्होंने कहा कि देश में वाहनों की बढ़ती संख्या (Vehicular Population) के आधुनिकता (Modernization) को, अनफिट वाहनों (Unfit Vehicles )को एक वैज्ञानिक ढंग scientific manner में सड़कों से हटाने में ये योजना policy बहुत बड़ी भूमिका निभाएगी। मॉबिलिटी (Mobility) में आई आधुनिकता, यात्रा (Travel )और परिवहन (Transportation) का बोझ तो कम करती ही है, आर्थिक विकास के लिए भी मददगार साबित होती है।

21वीं सदी का भारत साफ भीड़भाड़ मुक्त (Clean, Congestion Free) और सुविधाजनक गतिशीलता (Convenient Mobility) का लक्ष्य लेकर चले, ये आज समय की मांग है।मोदी ने कहा कि नई स्क्रैपिंग पॉलिसी, वेस्ट टू वेल्थ का मंत्र (Waste to Wealth) कचरे से कंचन के अभियान की, सेल्युलर इकोनॉमी (Circular Economy) की एक अहम कड़ी है।

पीएम मोदी ने कहा कि ये पॉलिसी, देश के शहरों से प्रदूषण कम करने और पर्यावरण की सुरक्षा के साथ तेज़ विकास की हमारे कमिटमेंट को भी दर्शाती है। उन्होंने कहा कि आज एक तरफ भारत डीप ओशीन मिशन के माध्यम से नई संभावनाओं को तलाश रहा है, तो वहीं सर्कुलर इकॉनॉमी को भी प्रोत्साहित कर रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी कोशिश ये है कि विकास को हम टिकाऊ (Sustainable) पर्यावरण के अनुकूल (Environment Friendly) बनाएं। तीसरा लाभ सीधा जीवन से जुड़ा है। उन्होनें कहा कि पुरानी गाड़ियों, पुरानी टेक्नॉलॉजी के कारण रोड एक्सीडेंट का खतरा बहुत अधिक रहता है, जिससे मुक्ति मिलेगी। पीएम मोदी ने कहा कि चौथा, इससे हमारे स्वास्थ्य प्रदूषण के कारण जो असर पड़ता है, उसमें कमी आएगी। इसके साथ ही उसे रोड टैक्स में भी कुछ छूट दी जाएगी। दूसरा लाभ ये होगा कि पुरानी गाड़ी की मैंटेनेंस कॉस्ट, रिपेयर कॉस्ट, ईंधन में बचत (Fuel Efficiency) इसमें भी बचत होगी।

पीएम मोदी ने कहा कि इस पॉलिसी से सामान्य परिवारों को हर प्रकार से बहुत लाभ होगा। उन्होंने कहा कि सबसे पहला लाभ ये होगा कि पुरानी गाड़ी को स्क्रैप करने पर एक सर्टिफिकेट मिलेगा। पीएम मोदी ने कहा कि ये सर्टिफिकेट जिसके पास होगा उसे नई गाड़ी की खरीद पर रजिस्ट्रेशन के लिए कोई पैसा नहीं देना होगा। आत्मनिर्भर भारत को गति देने के लिए, भारत में इंडस्ट्री को टिकाऊ (Sustainable) और उत्पादकता (Productive) बनाने के लिए निरंतर कदम उठाए जा रहे हैं।

पढ़ें :- T-20 World Cup : योग गुरू बाबा रामदेव बोले- आतंक और मैच एक साथ नहीं 

उन्होंने कहा कि हमारी ये पूरी कोशिश है कि ऑटो मैन्यूफैक्चरिंग से जुड़ी वैल्यू चेन के लिए जितना संभव हो, उतना कम हमें इंपोर्ट पर निर्भर रहना पड़े। इथेनॉल हो, हाइड्रोजन फ्यूल हो या फिर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, सरकार की इन प्राथमिकताओं के साथ इंडस्ट्री की सक्रिय भागीदारी बहुत ज़रूरी है। R&D से लेकर इंफ्रास्ट्रक्चर तक, इंडस्ट्री को अपनी हिस्सेदारी बढ़ानी होगी। पीएम मोदी ने कहा कि इसके लिए जो भी मदद आपको चाहिए, वो सरकार देने के लिए तैयार है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...