ऐतिहासिक इजरायल दौरे पर PM मोदी रवाना, इन समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल की तीन दिवसीय दौरे के लिए मंगलवार को रवाना हो गए। पीएम मोदी का इजरायल दौरा तीन दिन का होगा और इसके बाद पीएम मोदी जर्मनी जाएंगे। बता दें कि यह किसी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला इजरायल दौरा है।

इस दौरान मोदी अपने समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू के साथ आतंकवाद जैसी साझा चुनौतियों और आर्थिक संबंधों को बढ़ावा देने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल के ऐतिहासिक दौरे के लिए रवाना। किसी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला इजरायल दौरा।

{ यह भी पढ़ें:- पटना यूनिवर्सिटी में पीएम मोदी ने दिया दिवाली का तोहफा, 20 यूनिवर्सिटी को दिया 10 हजार करोड़ का फंड }

ये होगा कार्यक्रम—

एक विशेष स्वागत समारोह के तहत मोदी जब तेल अवीव के बेन-गुरियन हवाई अड्डे पहुंचेगे तो नेतन्याहू खुद मोदी के स्वागत के लिए उपस्थित होंगे।
यह विशेष स्वागत समारोह केवल अमेरिकी राष्ट्रपतियों और पोप के स्वागत के लिए ही किया जाता है।
इस दौरान मोदी इजराइल के राष्ट्रपति रुवेन रुवी रिवलिन से भी मिलेंगे।
वह 1918 में हेफा की मुक्ति के लिए अपने प्राणों की आहूति देने वाले भारतीय सैनिकों के स्मारकों पर श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।
मोदी के इस दौरे के दौरान भारत और इजराइल के राजनयिक संबंधों के 25 वर्ष भी पूरे हो रहे हैं।
मोदी छह जुलाई तक इजरायल में रहेंगे। इसके बाद वह जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जर्मनी के हैम्बर्ग जाएंगे।

{ यह भी पढ़ें:- सीएम योगी ने राहुल गांधी को कहा 'भगोड़ा' }

ये समझौते होंगे—

भारत और इजरायल के बीच कारोबार के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए 40 मिलियन डॉलर का साझा कोष बनाया जाएगा।
भारतीय फिल्मकार यदि फिल्मों की शूटिंग करने के लिए इजरायल जाएंगे, तो उन्हें वहां छूट देने के लिए समझौता होगा।
पर्यटन को बढ़ावा देने और जल व कृषि क्षेत्र में संयुक्त सरकारी परियोजना शुरू करने को लेकर समझौता होगा।
नई खोज, विज्ञान, तकनीक और अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में भी दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के कई समझौते होने की उम्मीद है।
वायु संपर्क और निवेश बढ़ाने को लेकर भी समझौतों पर हस्ताक्षर होंगे। भारत इजरायल में अपना सांस्कृतिक केंद्र खोलेगा।

{ यह भी पढ़ें:- PM मोदी के 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर }