पीएम बोले-नागरिकता कानून सौ फीसद सही, आग लगाने वालों का कपड़ों से ही पता चलता है

pm modi
पीएम बोले-नागरिकता कानून सौ फीसद सही, आग लगाने वालों का कपड़ों से ही पता चलता है

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार झारखंड के दुमका में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान वह पहली बार नागरिकता कानून पर बोलते हुए कहा कि नागरिकता कानून से जुड़ा एक महत्वपूर्ण बदलाव किया है। उन्होंने कानून को लेकर पूर्वोत्तर में जारी विरोध पर कहा कि जो लोग आग लगा रहे हैं वो कौन हैं। इसका पता उनके कपड़ों से ही चल जाता है।

Pm Said Citizenship Law Is Hundred Percent Right Only The Clothes Of The Firemen Are Known :

रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि, ये जनसमर्थन दिखा रहा है कि झारखंड में भाजपा को, कमल के फूल को, आप सभी का विशेषकर मेरे आदिवासी भाई-बहनों का भरपूर जनसमर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि, शहीदों की धरती को, राष्ट्रभक्तों को, वीरों को जन्म देने वाली वीर माताओं की धरती को मैं नमन करता हूं।

उन्होंने कहा कि हम आपके सेवक बनकर काम करते हैं। साथ ही अपने काम का हिसाब भी जनता जनार्दन के चरणों में रखता हूं। एक कार्यकर्ता के रूप में आदिवासियों के बीच रहकर उनकी सेवा करने का मुझे लंबे समय का अनुभव रहा है और मेरे जीवन बनाने में वो अनुभव भी बहुत काम आता है। इसलिए मैं और मेरे साथी आपकी तकलीफों को भली भांति समझते हैं।’

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार झारखंड के दुमका में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान वह पहली बार नागरिकता कानून पर बोलते हुए कहा कि नागरिकता कानून से जुड़ा एक महत्वपूर्ण बदलाव किया है। उन्होंने कानून को लेकर पूर्वोत्तर में जारी विरोध पर कहा कि जो लोग आग लगा रहे हैं वो कौन हैं। इसका पता उनके कपड़ों से ही चल जाता है। https://twitter.com/BJP4Jharkhand/status/1206146213432610816 रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि, ये जनसमर्थन दिखा रहा है कि झारखंड में भाजपा को, कमल के फूल को, आप सभी का विशेषकर मेरे आदिवासी भाई-बहनों का भरपूर जनसमर्थन मिल रहा है। उन्होंने कहा कि, शहीदों की धरती को, राष्ट्रभक्तों को, वीरों को जन्म देने वाली वीर माताओं की धरती को मैं नमन करता हूं। उन्होंने कहा कि हम आपके सेवक बनकर काम करते हैं। साथ ही अपने काम का हिसाब भी जनता जनार्दन के चरणों में रखता हूं। एक कार्यकर्ता के रूप में आदिवासियों के बीच रहकर उनकी सेवा करने का मुझे लंबे समय का अनुभव रहा है और मेरे जीवन बनाने में वो अनुभव भी बहुत काम आता है। इसलिए मैं और मेरे साथी आपकी तकलीफों को भली भांति समझते हैं।'