IIT मद्रास में बोले PM, देश को महान बनाना 130 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी

PM MODI
IIT मद्रास में बोले PM, देश को महान बनाना 130 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी

नई दिल्ली। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में शिरकत करने चेन्नई पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एयरपोर्ट पर कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार तमिलनाडु आया हूं। चेन्नई आकर हमेशा खुशी होती है। गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आपका धन्यवाद।

Pm Says In Iit Madras Responsibility Of 130 Crore People To Make The Country Great :

दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि देश को महान बनाना सिर्फ सरकार का काम नहीं है बल्कि यह भारत के 130 करोड़ लोगों की भी जिम्मेदारी है। विश्व को भारत से बहुत उम्मीदें हैं हम देश को इतना महान बनाएंगे कि यह दुनिया के लिए उपयोगी साबित हो।

इस दौरान पीएम मोदी ने अपनी अमेरिकी यात्रा का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मेरी अमेरिका यात्रा के दौरान जब मैंने तमिल भाषा में कुछ कहा और दुनिया को यह बताया कि तमिल दुनिया की प्राचीन भाषा है, तो उसके बाद अमेरिका में यह भाषा बातचीत का केंद्र बन गई।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह के उनके भाषण के लिए सुझााव मांगे। मोदी सोमवार को चेन्नई में समारोह को संबोधित करने वाले हैं। सिंगापुर-भारत हैकथॉन के पुरस्कार वितरण समारोह में भी वह शिरकत करेंगे। मोदी ने ट्वीट किया कि मैं आईआईटी मद्रास दीक्षांत समारोह में शिरकत करने चेन्नई जाऊंगा। मैं भारत के कुछ सबसे प्रतिभाशाली युवाओं से मिलने को उत्साहित हूं।

पीएम मोदी ने कहा कि आपका इनोवेशन देश की 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के सपने को साकार करेगा। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि अमेरिका में विश्व नेताओं, उद्योगपतियों के साथ मेरी बैठकों में भारत को लेकर आशावाद और इसके युवकों में विश्वास का उल्लेख हुआ।

पीएम मोदी ने विभिन्न समाधानों के साथ हैकाथन में भाग लेने वालों की सराहना करते हुए कैमरा संबंधी एक नवोन्मेष का जिक्र किया और कहा कि यह संसद में उपयोगी होगा। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद लोगों के ठहाकों के बीच कहा कि मुझे मुख्य रूप से वह कैमरा अच्छा लगा जो बताता है कि कौन ध्यान दे रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘आईआईटी-मद्रास में ‘सिंगापुर इंडिया हैकाथन 2019 में कहा कि हम दो बड़े कारणों से नवोन्मेष को प्रोत्साहित कर रहे हैं। पहला कारण यह है कि हम भारत की समस्याओं को सुलझाने के लिए आसान समाधान चाहते हैं ताकि जीवन सरल हो सके। उन्होंने कहा कि दूसरा कारण यह है कि हम भारत के लोग, पूरी दुनिया के लिए समाधान तलाशना चाहते हैं। वैश्विक स्तर पर प्रयोग होने वाले भारतीय समाधान।

पीएम मोदी ने कहा कि स्कूलों से लेकर उच्च शिक्षा और अनुसंधान तक, एक ऐसा पारिस्थितिकी तंत्र पैदा किया जा रहा है जो नवोन्मेष का माध्यम बन गया है। देश तीन शीर्ष स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्रों में से एक है। उन्होंने कहा कि भारत 5000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की ओर बढ़ रहा है और नवोन्मेष एवं स्टार्टअप इसमें अहम भूमिका निभाएंगे।

सिंगापुर-भारत हैकथॉन कार्यक्रम में पहुंच पीएम मोदी ने कहा कि आप पिछले 36 घंटों से सिंगापुर-भारत हैकथॉन में काम कर रहे हैं और मैं बिल्कुल भी आपके चेहरे पर थकान नहीं देख रहा हूं, बल्कि सभी तरोताजा लग रहे हैं। आपके चेहरे पर अपने टास्क को सही से पूरा किए जाने की संतुष्टि मुझे नजर आ रही है। मुझे लगता है कि संतुष्टि का भाव चेन्नई के खास ब्रेकफास्ट से आती है।”

पीएम मोदी ने अपनी अमेरिकी यात्रा का जिक्र करते हुए कहा, मेरी अमेरिका यात्रा के दौरान जब मैंने तमिल भाषा में कुछ कहा और दुनिया को यह बताया कि तमिल दुनिया की प्राचीन भाषा है, तो उसके बाद अमेरिका में यह भाषा बातचीत का केंद्र बन गई।

पीएम मोदी ने कहा कि देश को महान बनाना सिर्फ सरकार का काम नहीं है बल्कि यह भारत के 130 करोड़ लोगों की भी जिम्मेदारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई में कहा कि विश्व को भारत से बहुत उम्मीदें हैं, हम देश को इतना महान बनाएंगे कि यह दुनिया के लिए उपयोगी साबित हो।

इससे पहले चेन्नई एयरपोर्ट पर पीएम मोदी ने कहा, “चुनाव के बाद पहली बार आपके राज्य आया हूं। यहां आकर हमेशा खुशी होती है। गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आपका धन्यवाद। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चेन्नई पहुंचे।

नई दिल्ली। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में शिरकत करने चेन्नई पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एयरपोर्ट पर कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार तमिलनाडु आया हूं। चेन्नई आकर हमेशा खुशी होती है। गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आपका धन्यवाद। दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि देश को महान बनाना सिर्फ सरकार का काम नहीं है बल्कि यह भारत के 130 करोड़ लोगों की भी जिम्मेदारी है। विश्व को भारत से बहुत उम्मीदें हैं हम देश को इतना महान बनाएंगे कि यह दुनिया के लिए उपयोगी साबित हो। इस दौरान पीएम मोदी ने अपनी अमेरिकी यात्रा का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मेरी अमेरिका यात्रा के दौरान जब मैंने तमिल भाषा में कुछ कहा और दुनिया को यह बताया कि तमिल दुनिया की प्राचीन भाषा है, तो उसके बाद अमेरिका में यह भाषा बातचीत का केंद्र बन गई। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह के उनके भाषण के लिए सुझााव मांगे। मोदी सोमवार को चेन्नई में समारोह को संबोधित करने वाले हैं। सिंगापुर-भारत हैकथॉन के पुरस्कार वितरण समारोह में भी वह शिरकत करेंगे। मोदी ने ट्वीट किया कि मैं आईआईटी मद्रास दीक्षांत समारोह में शिरकत करने चेन्नई जाऊंगा। मैं भारत के कुछ सबसे प्रतिभाशाली युवाओं से मिलने को उत्साहित हूं। पीएम मोदी ने कहा कि आपका इनोवेशन देश की 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के सपने को साकार करेगा। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि अमेरिका में विश्व नेताओं, उद्योगपतियों के साथ मेरी बैठकों में भारत को लेकर आशावाद और इसके युवकों में विश्वास का उल्लेख हुआ। पीएम मोदी ने विभिन्न समाधानों के साथ हैकाथन में भाग लेने वालों की सराहना करते हुए कैमरा संबंधी एक नवोन्मेष का जिक्र किया और कहा कि यह संसद में उपयोगी होगा। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद लोगों के ठहाकों के बीच कहा कि मुझे मुख्य रूप से वह कैमरा अच्छा लगा जो बताता है कि कौन ध्यान दे रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने 'आईआईटी-मद्रास में 'सिंगापुर इंडिया हैकाथन 2019 में कहा कि हम दो बड़े कारणों से नवोन्मेष को प्रोत्साहित कर रहे हैं। पहला कारण यह है कि हम भारत की समस्याओं को सुलझाने के लिए आसान समाधान चाहते हैं ताकि जीवन सरल हो सके। उन्होंने कहा कि दूसरा कारण यह है कि हम भारत के लोग, पूरी दुनिया के लिए समाधान तलाशना चाहते हैं। वैश्विक स्तर पर प्रयोग होने वाले भारतीय समाधान। पीएम मोदी ने कहा कि स्कूलों से लेकर उच्च शिक्षा और अनुसंधान तक, एक ऐसा पारिस्थितिकी तंत्र पैदा किया जा रहा है जो नवोन्मेष का माध्यम बन गया है। देश तीन शीर्ष स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्रों में से एक है। उन्होंने कहा कि भारत 5000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की ओर बढ़ रहा है और नवोन्मेष एवं स्टार्टअप इसमें अहम भूमिका निभाएंगे। सिंगापुर-भारत हैकथॉन कार्यक्रम में पहुंच पीएम मोदी ने कहा कि आप पिछले 36 घंटों से सिंगापुर-भारत हैकथॉन में काम कर रहे हैं और मैं बिल्कुल भी आपके चेहरे पर थकान नहीं देख रहा हूं, बल्कि सभी तरोताजा लग रहे हैं। आपके चेहरे पर अपने टास्क को सही से पूरा किए जाने की संतुष्टि मुझे नजर आ रही है। मुझे लगता है कि संतुष्टि का भाव चेन्नई के खास ब्रेकफास्ट से आती है।" पीएम मोदी ने अपनी अमेरिकी यात्रा का जिक्र करते हुए कहा, मेरी अमेरिका यात्रा के दौरान जब मैंने तमिल भाषा में कुछ कहा और दुनिया को यह बताया कि तमिल दुनिया की प्राचीन भाषा है, तो उसके बाद अमेरिका में यह भाषा बातचीत का केंद्र बन गई। पीएम मोदी ने कहा कि देश को महान बनाना सिर्फ सरकार का काम नहीं है बल्कि यह भारत के 130 करोड़ लोगों की भी जिम्मेदारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई में कहा कि विश्व को भारत से बहुत उम्मीदें हैं, हम देश को इतना महान बनाएंगे कि यह दुनिया के लिए उपयोगी साबित हो। इससे पहले चेन्नई एयरपोर्ट पर पीएम मोदी ने कहा, "चुनाव के बाद पहली बार आपके राज्य आया हूं। यहां आकर हमेशा खुशी होती है। गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आपका धन्यवाद। आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चेन्नई पहुंचे।