1. हिन्दी समाचार
  2. पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी का निधन, PM मोदी ने जताया शोक

पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी का निधन, PM मोदी ने जताया शोक

Pmavar Math Head Vishwesh Tirtha Swami Passed Away Pm Modi Mourns

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामीजी (88) का रविवार सुबह उडुपी स्थित श्रीकृष्ण मठ में निधन हो गया। उडुपी के विधायक रघुपति भट ने बताया कि स्वामीजी ने सुबह 9:30 बजे अंतिम सांस ली।  उनका पार्थिव शरीर महात्मा गांधी मैदान में रखा जाएगा। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने मठ जानकर उनके अंतिम दर्शन कर शोक व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने स्वामी के निधन पर तीन दिनों का राजकीय शोक घोषित किया है।

पढ़ें :- रामपुर:मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की चौदह सौ बीघा जमीन सरकार के नाम करने के आदेश,जाने पूरा मामला

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामीजी के निधन पर शोक जताते हुए कहा, “श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी उन लाखों लोगों के दिल-दिमाग में रहेंगे, जिन्हें उनसे मार्गदर्शन मिला। गुरु पूर्णिमा में उनसे मिलना यादगार रहा। उनके चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनाएं।” मोदी 2014 में चुनाव जीतने और प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के बाद स्वामीजी से मिलने पहुंचे थे।  

पढ़ें :- महराजगंज:सिसवा को हरा बड़हरा की टीम बनी विजेता

इससे पहले,  डॉक्टरों ने पहले कहा था कि स्वामी जी का निमोनिया का इलाज चल रहा था। तटीय क्षेत्र का दौरा कर रहे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा भी शनिवार को अस्पताल पहुंचे थे। मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से कहा कि स्वामीजी का स्वास्थ्य हर पल बिगड़ रहा है और डॉक्टर अपनी ओर से पूरा प्रयास कर रहे हैं। लेकिन डॉक्टर कह रहे हैं कि कोई सुधार नहीं हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने सब कुछ भगवान कृष्ण पर छोड़ दिया है।

उमा भारती ने ली थी दीक्षा

वहीं वरिष्ठ बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती स्वामी जी की शिष्या हैं। उन्होंने इससे पहले कहा था कि वह अपने गुरु के ठीक होने के लिए प्रार्थना कर रही हैं।

उमा भारती ने उन्हें समाज के सभी वर्गों के लोगों के श्रद्धेय और दुर्लभतम संत बताया। उमा भारती ने कहा, ‘‘मेरे लिए वह न केवल गुरु हैं बल्कि पिता की तरह हैं। मैं उनके स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करती हूं, क्योंकि समाज को स्वामी जी की बहुत जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरे गुरु एक कर्म योगी हैं और उन्होंने हम सभी को कर्म योगी बनने की शिक्षा दी।’’बताया जा रहा है कि उमा करीब एक सप्ताह से उडुपी में ही हैं। उमा ने 1992 में स्वामी जी से संन्यास दीक्षा ली थी।

पढ़ें :- पाना चाहते हैं शनिदेव के प्रकोपों से मुक्ति, शनिवार को जरूर खाएं ये चीजें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...