PNB कर्ज धोखाधड़ी: भगोड़े नीरव मोदी की हिरासत 27 फरवरी तक बढ़ी

neerav modi
PNB कर्ज धोखाधड़ी: भगोड़े नीरव मोदी की हिरासत 27 फरवरी तक बढ़ी

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 14,000 करोड़ रुपये (करीब दो बिलियन अमेरिकी डॉलर) के घोटाले के आरोपित भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी की मुश्किलें फिलहाल बढ़ गई हैं। अदालत ने उसे 27 फरवरी तक के लिए हिरासत में भेज दिया है।  नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक के साथ करीब दो अरब डॉलर की कर्ज धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग मामलों में भारत में वांछित है। ब्रिटेन में उसके प्रत्यर्पण को लेकर सुनवाई चल रही है।

Pnb Debt Fraud Custody Of Fugitive Nirav Modi Extended Till February 27 :

28 दिन बाद होगी सुनवाई

वैंड्सवर्थ कारागार में कैद नीरव मोदी जेल से वीडियो लिंक के जरिये डिस्ट्रिक्ट जज डेविड रोबिन्सन के सामने पेश हुआ. जज ने नीरव मोदी से कहा, “मुझे बताया गया कि आपका मामला 11 मई को अंतिम सुनवाई के निर्देशों के अनुसार आगे बढ़ रहा है।” उन्होंने हिरासत में सुनवाई की अगली तारीख 28 दिन बाद 27 फरवरी निर्धारित की है। नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर सुनवाई 11 मई से शुरू होनी है और इसके करीब पांच दिन चलने का अनुमान है.

नीरव ने बताया मानसिक स्वास्थ्य ठीक नहीं

नीरव मोदी ने पिछले साल नवंबर में घर में नजरबंदी की गारंटी की पेशकश करते हुए जमानत की अर्जी लगायी थी। यह एक “अभूतपूर्व” पेशकश थी क्योंकि आतंकवाद के मामलों में संदिग्ध व्यक्तियों को इस प्रकार निरुद्ध किया जाता है। नीरव मोदी ने साथ ही यह भी दुहाई दी थी कि मार्च में गिरफ्तार किए जाने के बाद वैंड्सवर्थ जेल में सलाखों के पीछे रहते हुए उसका मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ गया है।

भारत के लाने की पूरी कोशिश

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर कहा कि हम उसे भारत लाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा रहें है। उन्होंने कहा कि नीरव के खिलाफ अभी लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट में मुकदमा चल रहा है। वहीं पीएनबी घोटाले के एक अन्य अहम आरोपी मेहुल चोकसी पर उन्होंने कहा कि हमने एंटीगुआ और बारबुडा सरकारों से आग्रह किया है कि न्यायिक प्रक्रियाओं में तेजी लाएं जिससे उसे भारत लाए जाने की प्रक्रिया शुरू की जा सके।  

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 14,000 करोड़ रुपये (करीब दो बिलियन अमेरिकी डॉलर) के घोटाले के आरोपित भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी की मुश्किलें फिलहाल बढ़ गई हैं। अदालत ने उसे 27 फरवरी तक के लिए हिरासत में भेज दिया है।  नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक के साथ करीब दो अरब डॉलर की कर्ज धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग मामलों में भारत में वांछित है। ब्रिटेन में उसके प्रत्यर्पण को लेकर सुनवाई चल रही है। 28 दिन बाद होगी सुनवाई वैंड्सवर्थ कारागार में कैद नीरव मोदी जेल से वीडियो लिंक के जरिये डिस्ट्रिक्ट जज डेविड रोबिन्सन के सामने पेश हुआ. जज ने नीरव मोदी से कहा, "मुझे बताया गया कि आपका मामला 11 मई को अंतिम सुनवाई के निर्देशों के अनुसार आगे बढ़ रहा है।" उन्होंने हिरासत में सुनवाई की अगली तारीख 28 दिन बाद 27 फरवरी निर्धारित की है। नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर सुनवाई 11 मई से शुरू होनी है और इसके करीब पांच दिन चलने का अनुमान है. नीरव ने बताया मानसिक स्वास्थ्य ठीक नहीं नीरव मोदी ने पिछले साल नवंबर में घर में नजरबंदी की गारंटी की पेशकश करते हुए जमानत की अर्जी लगायी थी। यह एक "अभूतपूर्व" पेशकश थी क्योंकि आतंकवाद के मामलों में संदिग्ध व्यक्तियों को इस प्रकार निरुद्ध किया जाता है। नीरव मोदी ने साथ ही यह भी दुहाई दी थी कि मार्च में गिरफ्तार किए जाने के बाद वैंड्सवर्थ जेल में सलाखों के पीछे रहते हुए उसका मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ गया है। भारत के लाने की पूरी कोशिश विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर कहा कि हम उसे भारत लाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा रहें है। उन्होंने कहा कि नीरव के खिलाफ अभी लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट में मुकदमा चल रहा है। वहीं पीएनबी घोटाले के एक अन्य अहम आरोपी मेहुल चोकसी पर उन्होंने कहा कि हमने एंटीगुआ और बारबुडा सरकारों से आग्रह किया है कि न्यायिक प्रक्रियाओं में तेजी लाएं जिससे उसे भारत लाए जाने की प्रक्रिया शुरू की जा सके।