झाड़ -फूंक के नाम पर चूना लगाने वाले मौलाना चढ़े पुलिस के हत्थे

बाराबंकी। इस्लाम में जो पवित्र हज यात्रा कर लेता है उसे समाज में बहुत ही सम्मान भरी नज़रों से देखा जाता है। मगर बाराबंकी पुलिस की गिरफ्त में आये मौलाना हाजी रेहान को उनके कुकर्मों के कारण आज समाज बड़ी जिल्लत भरी नज़रों से देख रहा है। यह हाजी भोले-भाले और परेशान लोगों को झाड़ -फूंक और धार्मिक अनुष्ठान से उनकी परेशानी दूर करने का झांसा देकर नशीला पदार्थ खिलाकर उन्हें लूटने का काम करता था। इस हाजी ने पुलिस के सामने लगभग डेढ़ दर्जन से ज्यादा घटनाएं करना स्वीकार कर सनसनी फैला दी है। पुलिस ने इसके कब्जे से लूटे गए जेवर, नगदी और मोबाइल बरामद कर इसे सलाखों के पीछे भेज दिया है ।

बाराबंकी पुलिस की गिरफ्त में आए मौलाना उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हुसैनाबाद का रहने वाला है। इस्लामिक लिबास और दाढ़ी में रहने वाले मौलाना की करतूतें इतनी घिनौनी हैं जिसे आप सुनकर दंग रह जायेंगे। यह मौलाना मस्जिदों में अपनी परेशानी दूर करने की दुआ करने आये लोगों में से सम्पन्न और परेशान लोगों को चिन्हित कर उन्हें विशेष प्रकार का अनुष्ठान कराने की सलाह देता था। फिर उनका पता जानकार उनके घर आ-जाकर उन्हें अनुष्ठान के लिए तैयार करता था। जब परेशान व्यक्ति अनुष्ठान के लिए तैयार हो जाता तो बड़ी ही चालाकी से उनके प्रसाद में नशीला पदार्थ मिलाकर पूरे घर को खिला कर उन्हें बेहोश कर उनके कीमती सामान लूट कर फरार हो जाता था ।

बीते लगभग दस दिन पूर्व बाराबंकी के नगर कोतवाली इलाके में दयानन्द नगर एक प्रधान के घर भी इस मौलाना ने ठीक इसी तरह अनुष्ठान के नाम पर रात के समय प्रसाद के लिए बनी खीर में नशीला पदार्थ मिलाकर पूरे घर के लोगों को बेहोश कर दिया और फिर घर में रखे लाखों की जेवरात और नगदी लेकर फरार हो गया। मौलाना की अगर माने तो लूट-पाट का यह तरीका उसे जेल से मिला। एक बार किसी मामले में मौलाना जेल गए थे और जेल में बंद कुछ लोगों ने मौलाना को मज़ाक -मज़ाक में लूट का यह तरीका बताया था। मौलाना जेल से निकल कर इस्लामिक वेशभूषा धारण कर झाड़ -फूंक कर लूट की घटना को अंजाम देने लगे।

बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक कुंवर ज्ञानंजय सिंह की माने तो यह मौलाना 1993 से यानी लगभग 23 वर्षों से इस तरह की लूट की घटना को अंजाम देता आ रहा है। इस मौलाना ने लूट की पंद्रह घटनाओं को पुलिस के सामने स्वीकार कर लिया है लेकिन इसमें जनपद लखीमपुर खीरी की घटनाएं शामिल नहीं हैं पुलिस लूट की उन घटनाओं को पता लगाने का प्रयास कर रही है। मौलाना ने प्रदेश के कई जनपदों में इसी तरह की लूट की घटना को अंजाम दिया है। एक आपराधिक मामले में यह मौलाना छह साल तक जेल की हवा भी खा चुका है। पुलिस ने इस मौलाना के कब्जे से लूटे हुए सोने और चांदी के काफी जेवरात, दो मोबाइल फोन और पचपन हज़ार की नगदी बरामद की है।