महिला जज का हत्यारा निकला उसका पति, कराना चाहता था गर्भपात

Police Cracks Magistrate Pratibha Gautams Murder Case

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात की न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रतिभा गौतम की मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली, जिसे पहले मजह आत्महत्या बताया जा रहा था, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद तथ्य हत्या की ओर इशारा करने लगे। पुलिस ने प्रतिभा की हत्या का खुलासा करते हुए उनके अधिवक्ता पति मुन अभिषेक को गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल अभी पुलिस पूछताछ में जुटी हुई है। पुलिस की शुरुआती पूछताछ में जो तथ्य खुल कर सामने आए हैं, उनके मुताबिक हत्या की वजह प्रतिभा के गर्भपात नहीं कराने पर उनके और मनु के बीच विवाद हुआ था। इसी विवाद को लेकर दोनों के बीच वाट्सअप मैसेज भी किए गए थे। मैसेज चेक करने के बाद प्रतिभा के पति को गिरफ्तार किया गया है।

बता दें कि रविवार सुबह कानपुर देहात में बतौर न्यायिक मजिस्ट्रेट (द्वितीय) के रूप में तैनात प्रतिभा गौतम का शव कानपुर नगर की सर्किट हाउस आफीसर्स कॉलोनी स्थित उनके घर में फांसी पर लटका मिला था। उनके दोनों हाथों की नस कटी हुई थी। उस वक्त उनके पति ने बताया था कि प्रतिभा शनिवार को दिल्ली गई थीं, लेकिन झगड़ा होने पर कानपुर वापस आ गई थीं। सुबह उनका शव फांसी पर लटका मिला।




एसएसपी शलभ माथुर का कहना है कि गर्भपात को लेकर दोनों के बीच विवाद हुआ था। शनिवार को प्रतिभा दिल्ली गई थीं, लेकिन झगड़े के बाद दोपहर ढाई बजे दिल्ली से टैक्सी पकड़ कर सीधे कानपुर आ गईं। प्रतिभा पर उसका पति बच्चा गिराने को लेकर दबाव बना रहा था। एसएसपी के मुताबिक पति मनु अभिषेक के व्हाट्सएप मैसेज से इस बात का खुलासा हुआ। एसएसपी ने बताया कि घटना के दिन जज प्रतिभा गौतम के पति ने उनकी गला घोंटकर हत्या कर दी और बाद में पंखा के लटकाकर आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया था।

उन्होंने कहा कि जज प्रतिभा गौतम के वाट्सअप मैसेज चेक करने के बाद इस मामले के रहस्य से पर्दा उठा है। उनके पति को गिरफ्तार कर पुलिस
पूछताछ कर रही है।



पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मिले अहम सुराग–

प्रतिभा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि प्रतिभा की मौत गला घोटने से हुई है। इसके अलावा उसके गले पर चाकुओं के पांच निशान भी पाए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, प्रतिभा के शरीर पर 16 चोटों के निशान मिले जो इस ओर इशारा कर रहे हैं कि मरने से पहले प्रतिभा ने बचाव के लिए जी भर संघर्ष किया था। चार डाक्टरों के पैनल ने उनका पोस्टमार्टम किया, पूरे पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी कराई गई।

पुलिस शुरू से मान रही थी घटना को संदिग्ध–

पुलिस का कहना है कि कोई दोनों हाथों की नसे नहीं काट सकता और काट भी ले तो उसके बाद फांसी पर नहीं लटक सकता। इसलिए मामाला संदिग्ध है। पुलिस ने दोनों के वाट्सअप मैसेज चेक किए, जिससे उन्हें पता चला कि गर्भवती प्रतिभा के गर्भपात नहीं कराने पर पति से काफी विवाद हुआ था। उसके बाद शनिवार रात में ही मनु ने प्रतिभा की हत्या कर दी और उसे खुदकुशी का रूप देने के लिए दोनों हाथों की नस काटकर फांसी पर लटका दिया।



लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात की न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रतिभा गौतम की मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली, जिसे पहले मजह आत्महत्या बताया जा रहा था, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद तथ्य हत्या की ओर इशारा करने लगे। पुलिस ने प्रतिभा की हत्या का खुलासा करते हुए उनके अधिवक्ता पति मुन अभिषेक को गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल अभी पुलिस पूछताछ में जुटी हुई है। पुलिस की शुरुआती पूछताछ में जो तथ्य खुल कर सामने आए हैं, उनके मुताबिक हत्या…