झगड़े के बाद व्हाट्सएप से दोस्तों को बुलाया तो दर्ज होगा दंगे का मुकदमा

whatsapp massege
झगड़े के बाद व्हाट्सएप से दोस्तों को बुलाया तो दर्ज होगा दंगे का मुकदमा

नई दिल्ली। किसी से झगड़ा होने पर यदि आप व्हाट्सएप के जरिए दोस्तों को इकटृठा करते हैं तो दंगे के मुकदमे के लिए तैयार रहिए। दिल्ली के एक रेस्तरा के बाहर डिलीवरी ब्याजय द्वारा किए गए बवाल के बाद यहां की एक अदालत ने ये फैसला सुनाया है। उसके मुताबिक व्हाट्सएप जैसी आधुनिक सुविधा का गलत इस्तेमाल किया गया है, जिससे इतना बड़ी घटना हो गई। बाद में उसे पुलिस द्वारा दर्ज किए गए दंगे के मुकदमे को सही ठहराते हुए आरोपियों को रात देने से इंकार कर दिया।

बता दें कि बीते दिनों दक्षिणी दिल्ली के एक रेस्टोरेंट में डिलीवरी ब्यॉज द्वारा तोड़फोड़ और हंगामा करने के मामले में दंगे का मुकदमा दर्ज किया गया है। दिल्ली पुलिस ने मामले में अदालत में जांच रिपोर्ट दायर की। रिपोर्ट मे कहा कि गया दो डिलीवरी ब्वायज ने मामूली विवाद के बाद व्हाट्सएप से मैसेज भेज कर दर्जनों साथियों को बुला लिया और वहां जमकर तोड़फोड़ और हंगामा हुआ।

{ यह भी पढ़ें:- अटल जी के निधन पर देशभर में 7 दिन का राष्ट्रीय शोक, आधा झुका रहेगा तिरंगा }

बताया गया कि 14 जुलाई की शाम कालकाजी में दिल्ली-19 नाम के रेस्टोरेंट पर कुछ डिलीवरी ब्यॉज ऑनलाइन ऑर्डर लेने आए थे। एक साथ कई बाइक इकट्ठा होने से वहां जाम लग गया, ऐसे में डिलीवरी ब्यॉज रेस्टोरेंट की पार्किंग में हंगामा करने लगे। जाम को देखते हुए बीट कांस्टेबल ने इन लड़कों को वहां से हटा दिया। इस पर डिलीवरी ब्यॉज को लगा कि रेस्टोरेंट वालों के कहने पर पुलिस ने उन्हें वहां से हटाया है।

{ यह भी पढ़ें:- दिल्ली के सरकारी स्कूल में 'महापाप', छह साल की बच्ची से दुष्कर्म }

नई दिल्ली। किसी से झगड़ा होने पर यदि आप व्हाट्सएप के जरिए दोस्तों को इकटृठा करते हैं तो दंगे के मुकदमे के लिए तैयार रहिए। दिल्ली के एक रेस्तरा के बाहर डिलीवरी ब्याजय द्वारा किए गए बवाल के बाद यहां की एक अदालत ने ये फैसला सुनाया है। उसके मुताबिक व्हाट्सएप जैसी आधुनिक सुविधा का गलत इस्तेमाल किया गया है, जिससे इतना बड़ी घटना हो गई। बाद में उसे पुलिस द्वारा दर्ज किए गए दंगे के मुकदमे को सही ठहराते…
Loading...