पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अपनाया ये रास्ता

jammu kashmir
पाक ने LOC पर की फायरिंग, सेना के 2 जवान शहीद

 नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर पुलिस ने सेना समेत अन्य सुरक्षाबलों पर पथराव करने वाले लोगों को पकड़ने का एक नया रास्त अख्तियार किया है। पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए पुलिस खुद ही पत्थरबाज बन गई। पुलिस के जवान पत्थरबाजों के बीच में घुस गए और फिर उन्हे पकड़ लिया।

Police Man Catch Stone Pelters In Jammu And Kashmir By Use Trick :

बताया जा रहा है कि पथराव के पीछे के असली गुनाहगारों को गिरफ्तार करने के लिए ऐतिहासिक जामा मस्जिद क्षेत्र में पत्थरबाजों के बीच अपने लोगों को भेजने की नई रणनीति शुक्रवार को अपनाई गई। जुमे की नमाज के बाद भीड़ ने पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों पर पथराव करना शुरु कर दिया लेकिन दूसरी ओर से कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की गई। कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने न तो आंसूगैस के गोले दागे और न ही लाठीचार्ज किया।

बता दें कि हमलावरों की संख्या जब 100 से ज्यादा हो गई तो दो पुराने पत्थरबाज भीड़ की अगुवाई करने लगे। इसके बाद लोगों को ​हटाने के लिए पहला आंसू गैस का गोला दागा गया। तभी भीड़ में शामिल पुलिसकर्मियों ने अगुवाई करने वाले दो पत्थरबाजों को पकड़ लिया और वे उन्हें वहां खड़े वाहन तक ले ले गए और फिर उन्हे थाने ले गए।

 नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर पुलिस ने सेना समेत अन्य सुरक्षाबलों पर पथराव करने वाले लोगों को पकड़ने का एक नया रास्त अख्तियार किया है। पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए पुलिस खुद ही पत्थरबाज बन गई। पुलिस के जवान पत्थरबाजों के बीच में घुस गए और फिर उन्हे पकड़ लिया।बताया जा रहा है कि पथराव के पीछे के असली गुनाहगारों को गिरफ्तार करने के लिए ऐतिहासिक जामा मस्जिद क्षेत्र में पत्थरबाजों के बीच अपने लोगों को भेजने की नई रणनीति शुक्रवार को अपनाई गई। जुमे की नमाज के बाद भीड़ ने पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों पर पथराव करना शुरु कर दिया लेकिन दूसरी ओर से कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की गई। कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने न तो आंसूगैस के गोले दागे और न ही लाठीचार्ज किया।बता दें कि हमलावरों की संख्या जब 100 से ज्यादा हो गई तो दो पुराने पत्थरबाज भीड़ की अगुवाई करने लगे। इसके बाद लोगों को ​हटाने के लिए पहला आंसू गैस का गोला दागा गया। तभी भीड़ में शामिल पुलिसकर्मियों ने अगुवाई करने वाले दो पत्थरबाजों को पकड़ लिया और वे उन्हें वहां खड़े वाहन तक ले ले गए और फिर उन्हे थाने ले गए।