स्वामी ओम को गिरफ्तार करने बिग बॉस के घर पहुंची पुलिस

मुंबई। रियलिटी शो बिग बॉस का विवादों से पुराना नाता रहा है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो इस रियलिटी शो के लिए बनाए जाने वाले घर में प्रवेश ही उन हस्तियों का होता है जिनका विवादों से पुराना नाता होता है। आजकल इस शो का 10वां सीजन चल रहा हैै। इस सीजन में सबसे ज्यादा फुटेज पाने वाले और विवादित ​टिप्पणियों की वजह से शो में रोज नए विवाद खड़े करने वाले प्रतिभागी हैं स्वामी ओम। इस बीच खबरें आ रहीं है कि शो में रहते स्वामी ओम को गिरफ्तार करने के लिए दिल्ली पुलिस ने बिगबॉस के घर पर दस्तक दी है। बिग बॉस के निर्माताओं के निवेदन के बाद पुलिस स्वामी के दस्तखत लेकर वापस लौट गई है।




मिली जानकारी के मुताबिक एक पारिवारिक विवाद में अदालती कार्रवाई का सामना कर रहे स्वामी ओम 18 अक्टूबर को अदालत के सामने पेश हुए थे। जहां उन्होंने अदालत के सामने अपनी आर्थिक परिस्थिति का हवाला देते हुए वकील उपलब्ध करवाए जाने की मांग रखी थी। हाल ही में इस मामले की सुनवाई के समय स्वामी का पक्ष अदालत के सामने रखने के लिए कोई भी पेश नहीं हुआ। जिसे संज्ञान में लेते हुए अदालत ने स्वामी ओम के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया। इस वारंट के स्वामी ओम तक पहुंचाने के लिए पुलिस को बिग बॉस के घर तक पहुंचना पड़ा। वहां स्वामी ने पुलिस से मिलने से इंकार कर दिया।




यह मामला वर्ष 2008 का है जब स्वामी के भाई प्रमोद झा ने उन पर दुकान में चोरी करने का आरोप लगाया था। प्रमोद का आरोप था कि स्वामी ने उनकी दुकान का ताला तोड़कर कुछ साइकिलें और दस्तावेज चोरी किए हैं। इस मामले में प्रमोद के बेटा चश्मदीद गवाह बना है।

बिग बॉस-10 के घर में रोज नए विवादों को जन्म देने वाले स्वामी ओम जितनी चालाकी से अपना खेल खेल रहे हैं और बिग बॉस के घर के बाहर उनसे जुड़ी जिस तरह की खबरें सामने आ रहीं हैं उससे यह कहना गलत नहीं होगा कि टीवी पर बाबा के नाम से मशहूर हो रहे स्वामी का असली चरित्र देखने को मिल रहा है। वह अपने घर में भी विवादों का कारण बन चुके हैं।




एक पारिवारिक विवाद के अलावा स्वामी के साथ महिलाओं को अश्लील फोटोज दिखाकर ब्लैकमेल करने के आरोप भी हैं। वह एक समाचार चैनल पर पैनल डिस्कशन के दौरान एक महिला के साथ हाथापाई करके सुर्खियों में आए थे। यह वीडियो यूट्यूब और सोशल मीडिया में खासा वायरल हुआ था।