पुलिसकर्मी ने कार पर मारा डंडा, सहमे युवक की हार्ट अटैक से हुई मौत

noida
पुलिसकर्मी ने कार पर मारा डंडा, सहमे युवक की हार्ट अटैक से हुई मौत

नई दिल्ली। सुरक्षा के लिए लागू हुए नए यातायात नियम ने नोएडा में रहने वाले सॉफ्टवेयर कंपनी के मार्केटिंग अधिकारी गौरव(34) की जान ले ली। उनका परिवार नोएडा के सेक्टर-52 स्थित शताब्दी विहार में रहता है। पिता मूलचंद शर्मा रिटायर्ड हैं। आप सोच रहें होंगे नियम लागू होने से कैसे किसी की जान जा सकती है, तो आइए हम आपको बताते हैं पूरा मामला…

Policeman Hit A Car With A Stick Death Of A Young Man Due To Heart Attack :

दरअसल, रविवार शाम गौरव माता-पिता के साथ कार से नोएडा से शाम करीब 6 बजे इंदिरापुरम में रहने वाले अपने रिश्तेदार के घर जा रहे थे कि तभी उनकी कार के सामने आकर ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने डंडा मार दिया। युवक ने इस पर आपत्ति जताई तो पुलिसकर्मी उनसे भिड़ गया। बिना किसी गलती के पुलिसकर्मी के व्यवहार से युवक सदमे में आ गया और दिल का दौरा पड़ने से बेहोश होकर सड़क पर गिर गया। यह देखकर पुलिसकर्मी मौके से फरार हो गया।

वहीं, घटना के वक्त कार में युवक के बुजुर्ग माता-पिता भी सवार थे। दोनों वहां से गुजर रहे लोगों से मदद लेकर बेटे को अस्पताल ले गए, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। घटना से मृतक का परिवार सदमे में है। बुजुर्ग माता-पिता ने प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की गुहार लगाई है। गौरव को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई।

बता दें, अब ये मामला नोएडा पुलिस और गाजियाबाद पुलिस की सीमा विवाद में उलझ गया है। नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि मीडिया के जरिए ही घटना की जानकारी मिली। पता चला है कि गौरव डायबिटिक थे और घटना सीआईएसएफ कट के पास हुई थी। इसलिए गाजियाबाद पुलिस को जानकारी दी गई। वहीं, गाजियाबाद एसपी ट्रैफिक श्याम नारायण सिंह ने बताया कि सेक्टर-62 के आसपास रविवार शाम को तैनात पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की गई, मगर ऐसी घटना की जानकारी नहीं मिली है।

नई दिल्ली। सुरक्षा के लिए लागू हुए नए यातायात नियम ने नोएडा में रहने वाले सॉफ्टवेयर कंपनी के मार्केटिंग अधिकारी गौरव(34) की जान ले ली। उनका परिवार नोएडा के सेक्टर-52 स्थित शताब्दी विहार में रहता है। पिता मूलचंद शर्मा रिटायर्ड हैं। आप सोच रहें होंगे नियम लागू होने से कैसे किसी की जान जा सकती है, तो आइए हम आपको बताते हैं पूरा मामला... दरअसल, रविवार शाम गौरव माता-पिता के साथ कार से नोएडा से शाम करीब 6 बजे इंदिरापुरम में रहने वाले अपने रिश्तेदार के घर जा रहे थे कि तभी उनकी कार के सामने आकर ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने डंडा मार दिया। युवक ने इस पर आपत्ति जताई तो पुलिसकर्मी उनसे भिड़ गया। बिना किसी गलती के पुलिसकर्मी के व्यवहार से युवक सदमे में आ गया और दिल का दौरा पड़ने से बेहोश होकर सड़क पर गिर गया। यह देखकर पुलिसकर्मी मौके से फरार हो गया। वहीं, घटना के वक्त कार में युवक के बुजुर्ग माता-पिता भी सवार थे। दोनों वहां से गुजर रहे लोगों से मदद लेकर बेटे को अस्पताल ले गए, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। घटना से मृतक का परिवार सदमे में है। बुजुर्ग माता-पिता ने प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की गुहार लगाई है। गौरव को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई। बता दें, अब ये मामला नोएडा पुलिस और गाजियाबाद पुलिस की सीमा विवाद में उलझ गया है। नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि मीडिया के जरिए ही घटना की जानकारी मिली। पता चला है कि गौरव डायबिटिक थे और घटना सीआईएसएफ कट के पास हुई थी। इसलिए गाजियाबाद पुलिस को जानकारी दी गई। वहीं, गाजियाबाद एसपी ट्रैफिक श्याम नारायण सिंह ने बताया कि सेक्टर-62 के आसपास रविवार शाम को तैनात पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की गई, मगर ऐसी घटना की जानकारी नहीं मिली है।