1. हिन्दी समाचार
  2. अम्बेडकरनगर के रंगबाज़ थानेदार के तबादले पर पुलिसकर्मियों ने निकाला काफिला, हुए सस्पेंड

अम्बेडकरनगर के रंगबाज़ थानेदार के तबादले पर पुलिसकर्मियों ने निकाला काफिला, हुए सस्पेंड

By रवि तिवारी 
Updated Date

Policemen Take Out Convoy In Ambedkar Nagars Transfer

लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान अम्बेडकरनगर (Ambedkarnagar) जिले में गुरुवार एक ऐसी तस्वीर सामने आयी,जिसे देखकर पुलिस (Police) महकमे के किसी बड़े हाकिम की रुखसती की यादे ताजा हो गई. यह तस्वीर सत्ता से जुड़े लोगों के मुंह पर जोरदार तमाचा भी कह सकते हैं. हालांकि इन सब के बीच सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उडी.

पढ़ें :- 11 मई 2021 का राशिफल: इस राशि के जातक विवादों से बचें, इन पर पड़ सकता है अमावस्या का प्रभाव

दरअसल बीजेपी (BJP) विधायक के विरोध के बाद जब थानाध्यक्ष महोदय का ट्रांसफर हुआ तो उन्होंने भी अपनी हनक दिखाई. क्षेत्र की सभी डायल 112 गाड़ियों को तलब कर एक लंबा काफिला निकला और थानाध्यक्ष साहब की विदाई दी गई.

बीजेपी विधायक ने लगाया था गंभीर आरोप

दरअसल, तस्वीरें बसखारी थानाक्षेत्र की हैं. इन तस्वीरों में सायरन बजता दिख रहा काफिला किसी नेता या फिर किसी माफिया का नही है. बल्कि यह काफिला बसखारी थानाध्यक्ष रहे मनोज सिंह की विदाई का है. एक सप्ताह पूर्व टांडा बीजेपी विधायक संजू देवी अपने समर्थकों के साथ बसखारी थाने पहुंची थी.

उन्होंने बसखारी थानाध्यक्ष पर अवैध वसूली, कार्यकर्ताओं का शोषण समेत कई आरोपों को लेकर थानाध्यक्ष को हटाने की मांग पर अड़ गई थीं. कई घंटे विधायक थाने पर बैठी रहीं. आखिरकार मौके पर सीओ सदर ने कार्यवाई का भरोसा दिलाया फिर जाकर मामला शांत हुआ. सीओ ने विधायक को आश्वासन दिया कि 24 घंटे के भीतर थानाध्यक्ष पर कार्यवाई हो जाएगी, लेकिन कार्यवाई होने में एक सप्ताह लग गए. कार्यवाई भी हुई तो सिर्फ स्थानांतरण की.

पढ़ें :- PUBG Mobile खेलने वालो में ख़ुशी की लहर, जल्द आ रहा है Battlegrounds Mobile India

पुलिस ने सत्ता को दिखाया ठेंगा

जिसके बाद बसखारी थानाध्यक्ष मनोज सिंह को हटाकर उन्हें जैतपुर थाने की कमान साहब ने सौंप दी. मानो जैसे मनोज सिंह को खुली छूट दे दी गयी कि जाओ जो मन करे ओ करो. आपका का कोई कुछ नहीं कर सकता. कार्यवाई के नाम पर जैतपुर थाने की कमान किसी बड़ी जीत से कम नहीं थी. क्योंकि मामला विधायक से जुड़ा था. तो फिर बसखारी थाने से रुखसती भी किसी विधायक जैसे शान और शौकत से कम नही होनी थी.

बस इन्हीं सब चीजों की चाहत पाले थानाध्यक्ष ने सारी मर्यादा को तार-तार कर दिया. थानाध्यक्ष की विदाई में जिले भर से पहुंची डायल 112 और थाने के सिपाहियों ने बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का मजक बनाते हुए पहले साहब को फूल और मालाओं से लादा. फिर साहब को मोटे-मोटे पहियों वाली गाड़ी में बिठाया गया. गाड़ी के आगे साहब के लोग और डायल 112 की गाड़ियां हूटर बजाते हुए जैतपुर थाने के लिए रवाना हुई. इस दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग का जमकर मजाक बनाया गया. यह सब कुछ और नहीं बल्कि सत्ता को चिढ़ाने का खुला खेल था.

एसपी ने थानाध्यक्ष को किया सस्पेंड

पुलिस अधीक्षक ने पूरे मामले का संज्ञान लेते हुए थानाध्यक्ष मनोज सिंह को सस्पेंड कर दिया है.

पढ़ें :- पिछले वर्ष की अपेक्षा, इस वर्ष का लॉक डाउन नहीं डाल पाया अर्थिक गतिविधियां पर अधिक प्रभाव: फिच रेटिंग्स

रिपोर्ट- अजय तिवारी 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X