सीएम अखिलेश के तेवरों के बीच इन अफवाहों से गरम रही यूपी की सियासत

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के भीतर टिकट बंटवारे को लेकर शुरू हुई खींच—तान के बीच गरम तेवरों के साथ सीएम अखिलेश यादव ने जैसे ही 235 प्रत्याशियों की सूची जारी की वैसे ही तरह—तरह की अफवाहें सामने आने लगीं हैं। एक ओर सीएम अखिलेश यादव के आधिकारिक आवास 5 कालीदास के बाहर समर्थकों ने डेरा जमा रखा है तो दूसरी ओर प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव के समर्थक उनके घर के बाहर टिके हुए हैं। समाजवादी पार्टी के भीतर बैठकों का दौर जारी है तो दूसरी ओर समर्थकों के बीच तरह तरह की अफवाहें मंडरा रहीं हैं।




गुरूवार को देर शाम जिस तरह से सीएम अखिलेश यादव ने अपने प्रत्याशियों के सूची जारी कि तो उसके तुरंत बाद खबरें आईं कि यह सूची जनवरी के पहले सप्ताह में जारी की जाएगी। हालांकि कुछ ही देर में वह सू​ची जारी कर दी गई।

Political Rumours In Election Politics Of Uttar Pradesh :

अखिलेश यादव की सूची सामने आने के कुछ देर बाद ही खबरें आईं कि सपा सुप्रीमो और उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने उन्हें बुलाया है। इससे पहले कि यह खबर पु​ष्ट हो पाती दूसरी जानकारी ये सामने आई कि सीएम अखिलेश समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के खिलाफ अपने प्रत्याशी को मैदान में उतारेंगे।

सीएम अखिलेश के बगावती सुरों को अफवाहों के पर तब और लग गए जब उनके आवास 5 कालीदास मार्ग के बाहर खड़े समर्थकों के बीच इस बात की चर्चा हुई कि सीएम विधानसभा को भंग करने की तैयारी कर रहे हैं।




इस बीच जो सबसे तगड़ी अफवाह उड़ी वह यह थी कि मुलायम सिंह यादव के करीबी नेताओं ने अखिलेश यादव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की मांग उठाई है। संभव है कि जल्द ही अखिलेश यादव को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाए। पार्टी हाईकमान अपने विधायकों को लखनऊ में ही रोकने को कह रही है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के भीतर टिकट बंटवारे को लेकर शुरू हुई खींच—तान के बीच गरम तेवरों के साथ सीएम अखिलेश यादव ने जैसे ही 235 प्रत्याशियों की सूची जारी की वैसे ही तरह—तरह की अफवाहें सामने आने लगीं हैं। एक ओर सीएम अखिलेश यादव के आधिकारिक आवास 5 कालीदास के बाहर समर्थकों ने डेरा जमा रखा है तो दूसरी ओर प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव के समर्थक उनके घर के बाहर टिके हुए हैं। समाजवादी पार्टी के भीतर बैठकों का दौर जारी है तो दूसरी ओर समर्थकों के बीच तरह तरह की अफवाहें मंडरा रहीं हैं। गुरूवार को देर शाम जिस तरह से सीएम अखिलेश यादव ने अपने प्रत्याशियों के सूची जारी कि तो उसके तुरंत बाद खबरें आईं कि यह सूची जनवरी के पहले सप्ताह में जारी की जाएगी। हालांकि कुछ ही देर में वह सू​ची जारी कर दी गई।अखिलेश यादव की सूची सामने आने के कुछ देर बाद ही खबरें आईं कि सपा सुप्रीमो और उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने उन्हें बुलाया है। इससे पहले कि यह खबर पु​ष्ट हो पाती दूसरी जानकारी ये सामने आई कि सीएम अखिलेश समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के खिलाफ अपने प्रत्याशी को मैदान में उतारेंगे।सीएम अखिलेश के बगावती सुरों को अफवाहों के पर तब और लग गए जब उनके आवास 5 कालीदास मार्ग के बाहर खड़े समर्थकों के बीच इस बात की चर्चा हुई कि सीएम विधानसभा को भंग करने की तैयारी कर रहे हैं। इस बीच जो सबसे तगड़ी अफवाह उड़ी वह यह थी कि मुलायम सिंह यादव के करीबी नेताओं ने अखिलेश यादव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की मांग उठाई है। संभव है कि जल्द ही अखिलेश यादव को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाए। पार्टी हाईकमान अपने विधायकों को लखनऊ में ही रोकने को कह रही है।