राजस्थान में सियासी उठापटक जारी, कांग्रेस ने कहा-माफी मांग लें पायलट तो बन सकती है बात

sachin
मैं दुखी हूं, लेकिन आधारहीन और संगीन आरोपों से आश्चर्यचकित नहीं हूं : सचिन पायलट

जयपुर। राजस्थान में सियासी उठापटक जारी है। सचिन पायलट से डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी छीन गयी है। हालांकि, कांग्रेस के दिग्गज नेता उन्हें मनाने में जुटे हैं। वहीं, इस बीच कांग्रेस महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि अगर सचिन पायलट अपनी गलतियों के लिए माफी मांग लें तो बात बन सकती है लेकिन हर चीज की समयसीमा होती है।

Political Uproar In Rajasthan Continues Congress Said Apologize If The Pilot Can Become A Matter :

दरअसल, डिप्टी सीएम और राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद पायलट ने स्पष्ट किया है कि वह भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं। पायलट के बयान के बारे में पूछे जाने पर पांडे ने कहा, ”भगवान उनको सद्बुद्धि दे। जिस पार्टी ने उनको पाला-पोसा और बड़ा किया वह उनसे एक जिम्मेदार नेता होने की अपेक्षा करती है। उनको मेरा यही संदेश है।”

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि अशोक गललोत की सरकार को गिराने की साजिश में पायलट शामिल थे। यह पूछे जाने पर कि क्या अब भी पायलट के लिए कांग्रेस में कोई गुंजाइश है तो उन्होंने कहा, ”गुंजाइश क्यों नहीं होती? पांच दिनों से गुंजाइश ही गुंजाइश थी।” फिर यह सवाल करने पर कि क्या अब भी पायलट के लिए दरवाजे खुले हुए हैं तो कांग्रेस महासचिव ने कहा, ”दरवाजे हमेशा खुले रहते हैं, खुले हैं।”

 

जयपुर। राजस्थान में सियासी उठापटक जारी है। सचिन पायलट से डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी छीन गयी है। हालांकि, कांग्रेस के दिग्गज नेता उन्हें मनाने में जुटे हैं। वहीं, इस बीच कांग्रेस महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि अगर सचिन पायलट अपनी गलतियों के लिए माफी मांग लें तो बात बन सकती है लेकिन हर चीज की समयसीमा होती है। दरअसल, डिप्टी सीएम और राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद पायलट ने स्पष्ट किया है कि वह भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं। पायलट के बयान के बारे में पूछे जाने पर पांडे ने कहा, ''भगवान उनको सद्बुद्धि दे। जिस पार्टी ने उनको पाला-पोसा और बड़ा किया वह उनसे एक जिम्मेदार नेता होने की अपेक्षा करती है। उनको मेरा यही संदेश है।'' उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि अशोक गललोत की सरकार को गिराने की साजिश में पायलट शामिल थे। यह पूछे जाने पर कि क्या अब भी पायलट के लिए कांग्रेस में कोई गुंजाइश है तो उन्होंने कहा, ''गुंजाइश क्यों नहीं होती? पांच दिनों से गुंजाइश ही गुंजाइश थी।'' फिर यह सवाल करने पर कि क्या अब भी पायलट के लिए दरवाजे खुले हुए हैं तो कांग्रेस महासचिव ने कहा, ''दरवाजे हमेशा खुले रहते हैं, खुले हैं।''