1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Pongal festival 2022: पोंगल पर पुराने सामान को जला कर नए सामान घर में लाने की है परम्परा

Pongal festival 2022: पोंगल पर पुराने सामान को जला कर नए सामान घर में लाने की है परम्परा

दक्षिण भारत में मकर संक्रांति के दिन पोंगल का प्रमुख त्योहार मनाया जाता है। पोंगल तमिलनाडु का एक मुख्य त्योहार है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Pongal festival 2022 : दक्षिण भारत में मकर संक्रांति के दिन पोंगल का प्रमुख त्योहार मनाया जाता है। पोंगल तमिलनाडु का एक मुख्य त्योहार है। पोंगल के त्योहार को नव वर्ष के शुभारंभ के तौर मनाया जाता है। राज्य में  पोंगल की तैयारियां महीनों पहले शुरू हो जाती है। इस त्योहार को मनाने के लिए लोग बढ़ चढ़ हिस्सा लेते है। भगवान इंद्र की विशेष पूजा इस त्यौहार में की जाती है। इसके पीछे धार्मिक मान्यता है कि भगवान इंद्र अच्छी वर्षा करेंगे और फसलें अच्छी होंगी।
इस पर्व का पहला दिन भोंगी पोंगल के रूप में मनाया जाता है। वहीं दूसरे दिन सूर्य पोंगल, तीसरे दिन माट्टु पोंगल और चौथे दिन कन्या पोंगल सेलिब्रेट किया जाता है।

पढ़ें :- Vivah Panchami 2021: विवाह पंचमी के दिन रामचरितमानस के बाल कांड का पाठ करने की भी परंपरा है

तमिल कैलेंडर के अनुसार जब सूर्य 14 या 15 जनवरी को धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं तब यह नववर्ष की पहली तारीख होती है।पोंगल पर घरों की विशेष रूप से साफ-सफाई और सजावट की जाती है।इस त्योहार में घरों की पुताई की जाती है व रंगोली बनाई जाती है, मवेशियों को सजाया जाता है। नए कपड़े और नए बर्तन खरीदे जाते हैं। जंगल में गाय के दूध में उफान को भी महत्वपूर्ण बताया गया है। माना जाता है कि दूध का उफान शुद्ध और शुभता का प्रतीक है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...