1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Pooja Ki Supari : पूजा पाठ में देवताओं को समर्पित किया जाता है सुपारी, समृद्धि बढ़ाने वाली होती है

Pooja Ki Supari : पूजा पाठ में देवताओं को समर्पित किया जाता है सुपारी, समृद्धि बढ़ाने वाली होती है

सुपारी पूजा पाठ में चढ़ायी जाने वाली पवित्र वस्तुओं में से एक महत्वपूर्ण वस्तु है। दैनिक जीवन में यह पान के साथ मिलाकर खाया जाता है। भारत में सुपारी खाने की परंपरा बहुत पुरानी है। सुपारी को भगवान की वेदी पर चढ़ाया जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

pooja ki supari :सुपारी पूजा पाठ में चढ़ायी जाने वाली पवित्र वस्तुओं में से एक महत्वपूर्ण वस्तु है। दैनिक जीवन में यह पान के साथ मिलाकर खाया जाता है। भारत में सुपारी खाने की परंपरा बहुत पुरानी है। सुपारी को भगवान की वेदी पर चढ़ाया जाता है। सुपारी को नौ ग्रहों के रूप में पूजा जाता है। यह कठोर, मोटे गुणों का प्रतिनिधित्व करता है जिन्हें केवल नरम, शुद्ध गुणों को छोड़कर, भगवान को समर्पित किया जाना चाहिए। सुपारी को मंत्रों का उच्चारण कर देवताओं को समर्पित किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि पूजा में सुपारी के उपयोग से ब्रह्मा, यमदेव, वरुण देव और इंद्रदेव की उपस्थिति होती है। पूजा की सुपारी छोटी और थोड़ी लंबी होती है।

पढ़ें :- Astro Tips For Money : इन उपायों से परिवार में आएगी खुशहाली, कस्तूरी को चमकीले पीले कपड़े में लपेटकर तिजोरी में रखें

माना जाता है कि सुपारी समृद्धि बढ़ाने वाली होती है और इन्हें पंडाल, चक्की, पत्थर, बड़े बर्तन और दूल्हे के कपड़े से बांधा जाता है। उत्तर-पश्चिम भारत में, सुपारी के पेड़ लगाए जाने पर गांव के देवता को दूध और पका हुआ चावल चढ़ाया जाता है। इसे देवनार पूजा कहते हैं। विक्रमपुर में, देवी भगवती की पूजा सुपारी के सम्मान के रूप में की जाती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...